देवास में निकली कलश यात्रा

0

देवास में मंगलवार से गौ-आत्मा चिंतन और प्रशिक्षण सेवा एवं सामाजिक कल्याण समिति द्वारा श्रीमद भागवत कथा की शुरुआत की गई। कथा को लेकर समिति के अनिलसिंह ठाकुर ने बताया कि प्रात: 10 बजे से चाणक्यपुरी स्थित श्रीराम मंदिर से कलश यात्रा प्रारंभ हुई। नगर के प्रमुख मार्गों से होते हुए कथा स्थल मेंढकी रोड स्थित हटेसिंह दरबार कृषि फार्म पहुंची। यात्रा में मुख्य रूप से परम पूज्य विश्वात्मक सदगुरू जंगलीदास महाराज के शिष्य संत मौनीबाबा (नामानंदजी महाराज) उपस्थित थे। कलश यात्रा में महिलाएं बड़ी संख्या में कलश धारण कर सम्मिलित हुईं।

कथावाचिका स्वयंप्रभा अनुराधा नागर बग्घी में सवार होकर यात्रा में चली| कथा के प्रथम दिवस कथावाचिका नागर ने कथा की महत्ता बताते हुए कथा प्रसंग में आत्मदेव के जीवन का वृतांत, गोकर्ण एवं धुंधकारी के चरित्र का वृतांत सुनाया।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार बिना पतवार के नाव का पार लगना मुश्किल है, उसी प्रकार भक्ति, ज्ञान, वैराग्य के इस संसार के भव पार जाना असंभव है। हमारा कल्याण साधनों से नहीं साधना से होगा। कथा 16 अप्रैल तक प्रतिदिन दोपहर 1 से शाम 4 बजे तक चलेगी।

इस अवसर पर मुख्य रूप से अरविंदसिंह राजपूत, हटेसिंह दरबार, रामकला राजपूत, पत्रकार आनंद गुप्ता, सुभाषसिंह ठाकुर, सुनीलसिंह ठाकुर, दिनेश पाठक, प्रेमसिंह बैस, मोहनलाल चोडिया, श्रवणसिंह बैस, ओमप्रकाश पटेल आदि उपस्थित थे।

-अनिलसिंह ठाकुर, देवास

Share.