बुजुर्गों के लिए लाभकारी है डिजिटल तकनीक

0

समसामयिक अध्ययन केन्द्र व भारतीय लोक प्रशासन संस्थान, नई दिल्ली की इंदौर इकाई के संयुक्त तत्वावधान में ‘डिजिटल तकनीक की प्रशासन में भूमिका’ विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया| कार्यक्रम में आईआईपीए के अध्यक्ष आरपी पाठक द्वारा संस्थान का परिचय दिया गया| समसामयिक केन्द्र की मंत्री डॉ.मीनाक्षी स्वामी ने केन्द्र का परिचय दिया| इस विषय पर प्रकाश डालते हुए एससी गोंडल ने कहा कि डिजिटल तकनीक से कोई भी जानकारी बहुत सुगमता से मिलती है| यह बुजुर्गों के लिए कठिन है, पर भटकने से बेहतर है| इसके लिए इसका उपयोग का तरीका सीखना होगा|

प्रो. गुप्ता ने कहा कि तकनीक के जरिये सभी कार्य विशेषकर प्रशासनिक कार्य आम आदमी के लिए सुगम हो गए हैं| कागजी कार्रवाइयां कम होकर काम भी जल्दी होता है| एक नाम के दो व्यक्ति हों तो भी पहचान आसान हो गई है| आधार जैसे कार्ड के जरिये एक क्लिक पर व्यक्ति की पूरी जानकारी उपलब्ध है, लेकिन इसका सही तरीके से उपयोग ज़रूरी है|

वहीं प्रो.संजय माहेश्वरी ने कहा कि थोड़ी सी सावधानी रखने पर इसके फायदे अधिक हैं| बुजुर्गों के लिए कार्यशालाएं आयोजित की जा सकती हैं| डिज़िटल तकनीक के जरिये महत्वपूर्ण सूचनाएं जल्दी पहुंचाई जा सकती हैं| प्रो.अश्विनी शर्मा ने इस मौके पर कहा कि इस तकनीक से बेहतर प्रशासन पाया जा सकता है। इसके कई उदाहरण भी प्रस्तुत किए| मनीष दुबे ने बताया कि सावधानी के अभाव में कई बार दुर्घटनाएं हो जाती हैं|

पूर्व न्यायाधीश उच्च न्यायालय वीडी ज्ञानी ने बताया कि डिज़िटल तकनीक के कारण सरकारी योजनाओं का दुरुपयोग नहीं हो पाता है| भ्रष्टाचार और काले धन से मुक्ति संभव है| लोगों को लंबी-लंबी कतारों में खड़े रहने से भी काफी हद तक राहत मिली है| टैक्स आदि चुकाना आसान हो गया है| नामांतरण सुविधाजनक हुआ है| अर्थव्यवस्था में सुधार संभव हुआ है| इसका विरोध करने के बदले इसे सीखना चाहिए| जन्म, मृत्यु या अन्य प्रमाण-पत्र के लिए धक्के नहीं खाना पड़ता| टेबल दक्षिणा पर रोक लगी है| सारा रिकॉर्ड एक जगह उपलब्ध है| इसकी उपयोगिता निर्विवाद है|

कार्यक्रम का संचालन डॉ.मीनाक्षी स्वामी ने किया| आभार उमेश पारीख ने माना| अतिथियों का स्वागत व स्मृति चिन्ह अरविंद जवलेकर, नियति सप्रे, संध्या भराड़े, अरविंद ओझा, मीनाक्षी स्वामी, रवीन्द्र शुक्ला, अनिल भोजे, सूर्यकांत नागर आदि ने प्रदान किए |

-मीनाक्षी स्वामी, इंदौर

Share.