ओरिएन्टल विश्वविद्यालय में मुख कैंसर परीक्षण शिविर का आयोजन

0

विश्व तंबाकू निषेध दिवस के उपलक्ष्य में कल ओरिएन्टल विश्वविद्यालय में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, राजा रमन्ना सेंटर फॉर एडवांस्ड टेक्नोलॉजी, सेंट्रल लैब एवं रमन फाउंडेशन  कैंसर केयर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के संयुक्त तत्वावधान में विश्वविद्यालय के फार्मेसी विभाग के सभागृह में मनुष्य के स्वास्थ्य पर तंबाकू सेवन एवं धूम्रपान से होने वाले दुष्परिणामों पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया|

समारोह के प्रारम्भ में ओरिएन्टल विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ.केएल ठकराल ने अतिथियों का स्वागत किया| समारोह के मुख्य अतिथि  रमन फाउंडेशन कैंसर केयर हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर के वरिष्ठ कैंसर सर्जन, ऑन्कोलॉजिस्ट  डॉ.एसएस  नैयर ने  अपने उद्बोधन में छात्रों को क्लिनिकल एवं नॉन क्लिनिकल शोध से जोड़ने की आवश्यकता पर बल दिया।

उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में मुंह के कैंसर से मरने वालों की संख्या सबसे अधिक भारत में है और इसका मूल कारण है तंबाकू सेवन, इसे रोकने के लिए  लोगों में तंबाकू सेवन के दुष्परिणामों के प्रति चेतना जागृत की जाए। सेंट्रल लैब की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ.विनीता कोठारी ने भी तंबाकू सेवन के दुष्परिणामों पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि ब्लड प्रेशर, कैंसर, डायबिटीज, तनाव जैसी फैलने वाली बीमारियां गलत जीवनशैली का दुष्परिणाम है।  यदि लोग अपनी जीवन शैली और उचित खान-पान का ख्याल रखें तो बीमारियों से बचा जा सकता है। के मजूमदार ने लेज़र आधारित मुंह एवं सर्वाइकल कैंसर की पहचान हेतु पोर्टेबल कैंसर परीक्षण मशीन की जानकारी दी|

ओरिएन्टल विश्वविद्यालय के नवनियुक्त कुलपति प्रो.(डॉ) देवेंद्र पाठक ने  देश में तंबाकू सेवन को रोकने के लिए युवा पीढ़ी में नैतिक शिक्षा के प्रसार करने पर बल दिया| समारोह में बड़ी संख्या में विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ-साथ, विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष उपस्थित थे। सेमिनार में उपस्थित सभी अतिथियों को विश्वविद्यालय द्वारा स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए।

 

-डॉ.एमके गुप्ता

डीन (फार्मेसी) ओरिएन्टल यूनिवर्सिटी, इंदौर

Share.