website counter widget

भारत vs न्यूजीलैंड, आस्ट्रेलिया vs इंग्लैंड, किसमें कितना है दम?

0

ICC क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के लीग मुकाबले ख़त्म हो गए है और अब दुनिया की टॉप चार टीमें विश्वकप के 12 वें संस्करण में सेमीफाइनल में पहुंच गई है| क्रिकेट की शानदार दावत के साथ रेकॉर्डों से भरे इस विश्वकप के अंतिम चार में भारत, आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड की टीमें (India vs New Zealand and Australia vs England In Semifinals) है|

भारत 9 जुलाई को पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मेनचेस्टर के मैदान पर और आस्ट्रेलिया दूसरे सेमीफाइनल में मेजबान इंग्लैंड से 11 जुलाई को बर्मिघम में भिड़ेगा| अब तक इन चार टीमों का सफर शानदार रहा है और सभी टीमों ने अपने बेमिसाल खेल के दम पर सेमी में जगह बनाई है| अब चर्चा है कि कौन किस पर कितना भारी पड़ेगा | और कौन होगा विश्व चैम्पियन ?

रोहित शर्मा बना सकते हैं 4 बड़े कीर्तिमान

India vs New Zealand and Australia vs England In Semifinals :

भारत  – शानदार फॉर्म में चल रही टीम इंडिया शुरू से ही ख़िताब की प्रबल दावेदार रही है| 1983 और 2011 के बाद तीसरी बार खिलाफ जीतने को आतुर टीम इंडिया ने विश्वकप में इंग्लैंड को छोड़ कर सभी टीमों को धूल चटाई है वही न्यूजीलैंड से उसका मुकाबला बारिश की भेंट चढ़ गया था |

ICC Ranking : विराट के लिए खतरा बने रोहित शर्मा!

टीम इंडिया की मजबूती– रोहित शर्मा का शानदार फॉर्म जो अब तक रिकॉर्ड पांच शतक के साथ टॉप स्कोरर है|
विराट कोहली की कप्तानी और बल्लेबाजी में निरंतरता- कोहली बेमिसाल कप्तानी और पांच अर्धशतकों के साथ गजब की बल्लेबाजी कर रहे है| वें अब तक एक शतक को तरस रहे है ऐसे में मुमकिन है कि बड़े मुकाबलों में कोहली धमाका कर जाये |

जयप्रीत बुमराह की सटीक और ऑन डिमांड यार्कर-बुमराह इस विश्वकप में खुद को एक अलग मक़ाम पर ले गए है और भारतीय गेंदबाजी की धुरी बन गए है| भारत की जीत में उनका अहम् योगदान होगा | फ़िलहाल बल्लेबाजों में उनका खौफ कायम है |
धोनी का अनुभव-टीम के कप्तान बेशक विराट है लेकिन धोनी की मैदान पर मौजुदगी उनका काम आसान कर रही है | धोनी की क्रिकेट समझ, काबिलियत और विश्वक्रिकेट में उनके कद से हर कोई वाकिफ है|

टीम इंडिया की कमजोरी – मिडिल आर्डर फ़ैल रहा है और कोहली के बाद ज्यादातर मौकों दूसरे बल्लेबाज रनों की बारिश करने में नाकाम रहा है|
धीमी रन गति- धोनी की धीमी बल्लेबाजी ने उनके आलोचकों को इस बार कई मौके दिए है| साथ ही चार नम्बर की समस्या और लोवर आर्डर के बल्लेबाजों का लचर प्रदर्शन दिक्कत दें सकता है| भारत एक बार भी 350+ का आंकड़ा नहीं छू सका है जो बड़े मुकाबलों के लिहाज से सही नहीं है |
चोटिल खिलाड़ी और टीम संयोजन – शिखर धवन, भुवनेष्वर जैसे बड़े खिलाडियों के बाद शंकर के चोटिल होने से टीम इंडिया परेशान है और बड़े मुकाबलों से पहले अंतिम 11 की गुत्थी सुलझाना बड़ी चुनौती है|

आस्ट्रेलिया- पांच बार की चैम्पियन आस्ट्रेलिया इस बार भी अलग ही रंग में है और आला दर्जे के खेल के चलते बाकि टीमों से बेहतर नजर आ रही है |

बड़ा झटका, ऑस्ट्रेलिया के 2 बड़े खिलाड़ी विश्व कप से बाहर!

आस्ट्रेलिया की मजबूती– कंगारू ओपनर ने इस विश्वकप में धमाल मचा रखा है और डेविड वार्नर और कप्तान आरोन फिंच भी लीडिंग स्कोरर की लिस्ट में शामिल है|
स्टार्क का कहर – बड़े मैचों में बड़े खिलाड़ी में मिचेल स्टार्क को कोई नहीं भूल सकता | वें मैदान पर आते ही छा जाने की क्षमता रखते है और मुश्किल में भी कोई न कोई टीम की नैया पर लगा देता है | कंगारुओं की फील्डिंग हमेशा से ही उनका प्लस पॉइंट रही है|

आस्ट्रेलिया की कमजोरी – उसमान ख्वाजा के चोटिल हो जाने से मध्यम क्रम में दिक्कत हो सकती है |
मैक्सवेल भी अब तक छाप नहीं छोड़ पाए है |
भारत से हार – आस्ट्रेलिया इस बार लीग मुकाबले में टीम इंडिया से पार नहीं पा सका है |
इंग्लैंड से सेमीफाइनल आसान नहीं – मेजबान इंग्लैंड इस बार आस्ट्रेलिया को पटखनी देने में सक्षम | ऐसे में मिनी एशेज देखने को मिलेगा |

इंग्लैंड- पिछले दो सालों में मेजबान इंग्लैंड के खेल में गजब का सुधार हुआ है और विश्वकप से पहले ICC रैंकिंग में नम्बर एक की पोजीशन के साथ शानदार आगाज के बाद अब टीम सेमि फाइनल में है|


इंग्लैंड की ताकत – जॉनी बेरिस्टो, जो रूट, जोस बटलर और कप्तान मॉर्गन जहां रन बरसा रहे है वही बेन स्टोक्स गेंद और बेट दोनों से योगदान दें रहे है| बॉलिंग डिपार्टमेंट में जोफ्रे आर्चर विश्व क्रिकेट की नई सनसनी बन कर उभरे है |
इंग्लैंड की कमजोर कड़ी – क्रिकेट के जनक देश ब्रिटैन में अभी तक एक बार भी विश्वकप नहीं जीता है| ऐसे में बड़े मुकाबलों का दबाव झेलना चुनौती होगा|
बल्लेबाजी पर निर्भरता- अब तक खेले गए मुकाबलों में इंग्लैंड ने बल्लेबाजों के डैम पर मुकाबले जीते है और ऐसे में गेंदबाजी पक्ष उनकी कमजोरी बन सकता है |

न्यूजीलैंड- विश्वकप के इतिहास में सबसे ज्यादा बार सेमीफाइनल खेलने वाली टीमों में शामिल न्यूजीलैंड इस बार भी अंतिम चार में है और आठ बार सेमि खेलने वाली कीवी टीम इस बार भारत के खिलाफ खेलेंगी|


न्यूजीलैंड की ताकत – न्यूजीलैंड एक संतुलित टीम दिखती है और बेटिंग बॉलिंग के साथ फील्डिंग में भी शानदार काम कर रही है|
न्यूजीलैंड की कमजोरी – न्यूजीलैंड आठ बार सेमीफाइनल खेली है लेकिन सिर्फ एक बार उसका सफर आगे बढ़ा |
विश्व कप नहीं जीता – न्यूजीलैंड भी उन टीमों में शामिल है जिनके खाते में विश्वकप जितने का कारनामा दर्ज नहीं है|
टीम इंडिया से पार पाना मुश्किल -बल्लेबाजी के लिहाज से न्यूजीलैंड कमजोर नजर आ रही है | ऐसे में सेमीफाइनल में टीम इंडिया से पार पाना आसान नहीं होगा

कुल मिलाकर दोनों सेमीफाइनल्स में शानदार क्रिकेट की उम्मीद है और देखना दिलचस्प होगा की इस जोरआजमाइश में कौन मात खायेगा और कौन बनेगा क्रिकेट का अगला शहंशाह |

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.