शुरू हुई एकल विदेशी पर्यटकों की ऐतिहासिक यात्रा

1

शाही सफर करने के शौकीन लोगों को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेल ने ‘पैलेस ऑन व्हील्स’ नामक रेल की शुरुआत की थी। इसे विलासितापूर्ण रेलगाड़ी कहा जाता है।  भारतीय रेल एवं राजस्थान पर्यटन विकास निगम ने इस ट्रेन की शुरुआत की थी। इसको भारतीय रेल द्वारा राजस्थान राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से चलाया गया था। ‘पैलेस ऑन व्हील्स’ अपने गौरवपूर्ण इतिहास में एक नया आयाम जोड़ते हुए बुधवार को एकल विदेशी पर्यटकों की ऐतिहासिक यात्रा पर रवाना हुई। पैलेस ऑन व्हील्स के महाप्रबंधक प्रदीप बोहरा ने बताया कि “शाही रेलगाड़ी के इतिहास में पहली बार ऑस्ट्रेलिया के 41 एकल विदेशी पर्यटक सोलो ट्यूरिस्ट्स ने अनूठी पहल करते हुए पूरी रेलगाड़ी के सभी आधुनिक सुख-सुविधाओं से सुसज्जित एवं वातानुकूलित 41 केबिन्स को 1.30 करोड़ रुपए जमा करवा कर चार्टर बुक करवाया है।

यह गाड़ी इन यात्रियों को लेकर नई दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से जयपुर सवाईमाधोपुर-चित्तौडगढ़-उदयपुर-जैसलमेर-जोधपुर-भरतपुर और आगरा के लिए रवाना हुई और अगले बुधवार को वापस नई दिल्ली पहुंचेगी।” इस रेल सेवा को अगस्त 2009  में नवीनीकृत कर फिर से लॉन्च किया गया था, जिसमें पहले से अलग नई सजावट, यात्रा कार्यक्रम एवं भोजन सूची दी गई थी। सबसे शाही रेलगाड़ियों की सूची में ‘पैलेस ऑन व्हील्स’ का चौथा स्थान है। आरटीडीसी के नई दिल्ली में महाप्रबंधक संजीव शर्मा ने बताया कि शाही रेलगाड़ी इस पर्यटन सत्र के दौरान कुल 34 फेरों की यात्रा पूरी करेगी। शाही रेलगाड़ी को उसके पुराने वैभव एवं परिवेश के अनुरूप नए अवतार में सुसज्जित किया गया है। इस रेल का सत्र सितम्बर से आगामी अप्रैल तक रहेगा।

यदि इस ट्रेन के किराये की बात करें तो सितम्बर से अप्रैल का किराया रियायती दर पर 500 यूएस डॉलर प्रति यात्रा प्रति रात रखा गया है, जबकि शेष माह में 650 यूएस डॉलर प्रति यात्रा प्रति रात है। इस विशेष रेल में में 39 डीलक्स एवं 2 सुपर डीलक्स कैबिन हैं, जिनमें स्पा, जिम और अन्य सभी आधुनिक सुख-सुविधाएं उपलब्ध हैं।

Share.