website counter widget

ख़ूबसूरत Melukote में भूलभुलैया की शूटिंग  की गयी थी  

0

अगर आप घूमने के लिए मैसूर ( Mysore) जा रहे हैं तो आपको मेलूकोटे (Best Places To Visit In Melukote) भी जरूर जाना चाहिए। मेलूकोटे गांव  मैसूर से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। अगर आप प्रकृति प्रेमी हैं और आपको पौराणिक स्थानों से लगाव है, तो यह जगह आपके लिए जन्नत हो सकती है। मेलूकोटे ( Melukote )  एक कन्नड़ शब्द है जिसका अर्थ होता है श्रेष्ठ दुर्ग।  गांव के दुर्ग तो अब शेष नहीं बचे हैं , लेकिन दुर्ग के अंदर कई धरोहरें अब भी अपने स्वर्णिम समय की गवाही देने के लिए मौजूद हैं।   मेलूकोटे ( Melukote ) अपनी प्राकृतिक सुंदरता के साथ ही  अपने तालाबों के लिए भी मशहूर है।

Thekkady Tourism : छुट्टियों में जाए थेक्कड़ी की खूबसूरती देखने

छोटे बड़े सभी तालाबों को मिलाकर तकरीबन यहां पर 108 तालाब पाए जाते हैं। बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार ( Akshay kumar ) की फिल्म ” भूल भुलैया ” ( Bhul bhulaiyya )की शूटिंग भी यहीं हुई थी। प्रकृति की सुन्दर छटा बिखेरता हुआ यह गांव पहाड़ों के बीच बसा हुआ है। गांव का सौंदर्य निहारने  के साथ ही  आपको ऐतिहासिक धरोहरों के खजाने भी देखने को मिलते हैं। यहां का सबसे बड़ा तालाब कल्याणी तालाब ( Kalyani Pond ) है। तालाब के चारों ओर करीने से बनी हुई सीढ़ियां हैं और उस पर बने हुए ऊंचे – ऊंचे मंडप वास्तुकला का अनूठा उदाहरण प्रस्तुत करते हैं । इन मंडपों पर सजावट के लिए देवी – देवताओं की मूर्तियां उकेरी गयी हैं , जो देखने में काफी मनमोहक लगती है।  यह तालाब काफी पुराना है और ग्रामीणों के अथक प्रयास के दवारा आज भी संरक्षित है।

वे रहस्य, जिन्होंने फेल किए साइंस के फैक्ट

इस छोटे से गांव (Best Places To Visit In Melukote) का सम्बन्ध रामायण काल से भी बताया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि वनवास के दौरान भगवान राम , सीता माता और लक्ष्मण ने यहां विश्राम किया था। माता सीता की प्यास बुझाने के लिए भगवान राम ने अपने बाण से पर्वत को भेद कर पानी निकाला था। इस स्थान को लोग  धनुषकोटि ( Dhanushkoti ) के नाम से जानते हैं  और इस छोटे से जलस्त्रोत का पानी कभी नहीं सूखता है। यहां पर भगवान राम के पद्चिन्ह भी मौजूद हैं।

मेलूकोटे (Best Places To Visit In Melukote) गांव में  छलनारायण मंदिर (Chalnarayan Temple ) है , जिसका निर्माण 1200 ई. में दार्शनिक रामानुजम ने कराया था। इस मंदिर में भगवान संपत्कुमार की मूर्ती की स्थापना भी उन्होंने की थी।  भगवान संपत्कुमार की मूर्ति करीबन 900 साल पुरानी बताई जाती है।

अकेले सफ़र कर रही महिलाएं इन बातों का रखें ध्यान

मेलूकोटे पहुंचने के लिए मैसूर से बस या टैक्सी ली जा सकती है। मेलूकोटे ( Melukote ) के सबसे नजदीक रेल्वे स्टेशन पाण्डवपुरा है। मैसूर से आने वाली कुछ ट्रेनें यहां रूकती है।  मेलूकोटे बैंगलुरु एयरपोर्ट से 160 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.