Kasauli Tourism : कसौली एक खूबसूरत पर्यटक स्थल

0

यदि आप प्रकृति प्रेमी है और प्रकृति को बहुत करीब से देखना चाहते है तो कसौली जरूर जाए यहाँ का शांत वातावरण सुंदर दर्शनीय स्थल और ठंडा मौसम आपको मंत्रमुग्ध कर देगा। जिंदगी कि भागदौड़ से दूर कसौली का वातावरण जमीन पर जन्नत का एहसास कराने वाला होता है (Kasauli Tourism)। अगर आप कही घूमने का प्लान बना रहे है तो कसौली जरूर जाए वैसे तो यहाँ लोग साल भर आते रहते हैं, लेकिन अप्रैल से जून और सितम्बर से नवम्बर के बीच यहाँ अधिक पर्यटक आते हैं (Best Places To Visit In Kasauli 2019)। इस मौसम में कसौली के अनेक रंग देखने को मिल जाते हैं। कभी थोड़ी धूप, कभी थोड़े बादल और कभी हल्की-हल्की बारिश की बूंदें। यहाँ के पेड़-पौधों पर मौसम का जो रंग चढ़ता है, उसे यहाँ के फूल पत्तों पर महसूस कर सकते हैं। कसौली शांत, साफ-सुथरा ख़ूबसूरत और सस्ता पर्यटन (Tourism Place) स्थल है।

कलिम्‍पोंग एक सुन्दर पर्यटक स्थल

यहाँ आने वाले पर्यटकों में यहाँ की कुछ प्रमुख जगहें आकर्षण का केंद्र बनी रहती हैं। इनमें कसौली (Kasauli Tourism) की सबसे ऊँची जगह ‘मंकी प्वाइंट’, मंकी प्वाइंट पर बना ‘हनुमान मंदिर’, कसौली के कोलोनियल आर्किटेक्ट की मिशाल क्राइस्ट बैप्टिस्ट चर्च, बाबा बालकनाथ मंदिर, शिरडी साईं बाबा मंदिर, सेंट्रल रिसर्च इंस्टीट्यूट, एयरफोर्स गार्ड स्टेशन, एशिया का सबसे ऊँचा टीवी टावर और नजदीक ही सनावर स्थित लारेंस स्कूल, पाइनग्रोव स्कूल, सेंट मैरी कान्वेंट स्कूल जैसे प्राचीन स्कूल हैं, जो 100 साल से भी अधिक पुराने हैं (Best Places To Visit In Kasauli 2019)।

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला से कसौली (Kasauli Tourism) करीब 60 किलोमीटर की दूरी पर है। शहर की भीड़ और शोर से दूर कसौली खूबसूरत हिल स्टेशन है। यहां पर राइडिंग, रोप-वे, पहाड़ो पर ट्रैकिंग, लॉन्ग ड्राइव आदि का मजा ले सकते हैं। कसौली की सबसे खास बात है कि यह शिमला से सस्ता है। अपने सुहावने मौसम के लिए मशहूर कसौली में आप बदलते मौसम का रोमांचक एहसास कर सकते हैं (Best Places To Visit In Kasauli 2019)। यहां पर कुछ ही समय में बादल छा जाते हैं तो कुछ ही समय में सूरज की किरणें निकल आती हैं। इसके अलावा कसौली में बान, चीड़, देवदार के पेड़ों आदि के साथ जीवों की लुप्तप्राय प्रजातियों के लिए भी चर्चित है। यहां पर सैलानियों का आना-जाना लगा ही रहता है।

 

कृष्ण भवन मंदिर

भगवान कृष्ण का एक मंदिर कसौली (Best Places To Visit In Kasauli 2019) में हैं। जहां पर भारी संख्या में लोग दर्शन करने आते हैं। कृष्ण भवन मंदिर नाम के इस मंदिर का निर्माण 1926 में किया गया था। इस मंदिर को यूरोपीय और भारतीय शैली की वास्तुकला के आधार पर बनाया गया है।

सोमनाथ मंदिर की पवित्र यात्रा 

मंकी पॉइंट

अपरमाल ‘मंकी प्वाइंट’ तक जाता है, जो कसौली (Kasauli Tourism) का सबसे ऊँचा स्थान है। यह स्थान अब भारतीय सेना के अधिकार क्षेत्र में है, अतः वहाँ जाने के अनेक प्रबन्ध हैं। यहाँ श्रीराम के भक्त हनुमान का मंदिर भी है। कहते हैं कि भगवान हनुमान ने लक्ष्मण की जान बचाने के लिए संजीवनी बूटी लेने जाते समय छलांक के पूर्व कसौली के इस प्वाइंट पर भी कदम रखे थे। कसौली के सबसे ऊँचे इस प्वाइंट पर हनुमान के मन्दिर तक श्रद्धालुओं के साथ-साथ पर्यटक भी बहुत आते हैं। अगर पर्यटक मनोरम दृश्यों के दीवाने हैं तो यहाँ से कसौली की वादियों का नज़ारा देखकर रोमांचित हुए बिना नहीं रह पायेंगे। मंकी प्लाइंट कसौली बस स्टैड से 4 किलोमीटर दूर है और यहाँ से दूर तक फैली पर्वत शृंखलाएँ और घाटियों को देखने का अलग अनुभव है। एक तरफ़ कालका और चंडीगढ़ तो दूसरी तरफ़ सनावर धरमपुर और शिमला। इसके पास दो क़ब्रें हैं, जिनका अपना इतिहास है। आयरलैंड की महिला सक्षम घुड़सवार थीं। जब यहाँ सड़क नहीं बनी थी, तभी उसने एक दिन मंकी प्लाइंट तक घोड़े से जाने की योजना बनायी। लोगों ने बहुत मना किया, क्योंकि चट्टानें बहुत ज़्यादा स्थिर नहीं थीं, पर वह अपनी योजना पर दृढ़ रही। अन्त में वह घोड़े पर सवार होकर पहुँच तो गयी, पर वापसी में किसी चट्टान के खिसकने के उसके साथ-साथ घोड़े की भी मृत्यु हो गई। इन्हीं की क़ब्रें यहाँ हैं।

गुरु नानकजी गुरुद्वारा

कसौली की घरखल बाजार में स्थित गुरु नानकजी गुरुद्वारा यहां का धार्मिक केंद्र है। इसके अलावा यह पर्यटल स्थल भी है। गुरुद्वारे में देश के साथ दुनियाभर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने के लिए पहुंचते हैं।

सनसेट पॉइंट

यदि आप कसौली घूमने गए हैं तो सनसेट पॉइंट जरूर जाएं। यहां पर आपको शांतप्रिय माहौल मिलेगा। इस पॉइंट पर आपको चिड़िया और हवा की आवाज ही सुनाई देगी। इसके अलावा यहां से कई आकर्षक नजारे देखने को मिलते हैं।

क्राइस्ट चर्च

क्राइस्ट चर्च कसौली के लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। पहले इसको ऐन्जलिकन चर्च के नाम जाना जाता था। 1853 में इस चर्च का अंग्रेजों द्वारा निर्माण किया गया था। यह चर्च अपनी ग्लास से बनी खिड़कियों के लिए जाना जाता है। पर्यटक इस चर्च में घूमने आते है और शांत माहौल का अनुभव करते हैं।

मॉल रोड

कसौली का मॉल रोड घूमने के लिए बहुत प्रसिद्ध है। मॉल रोड शहर का मेन शॉपिंग मार्केट है। यहां पर दुकानें, रेस्ट्रॉन्ट वगैरह की भरमार है। इसलिए यहां पर पर्यटकों की आवाजाही लगी ही रहती है।

 

कैसे पहुंचे –

वायुमार्ग – कसौली का नजदीकी हवाई अड्डा चंडीगढ़ में है, जो कि 65 किलोमीटर है। दिल्ली से चंडीगढ़ के लिए दिन भर में अनेक उड़ाने हैं। इंडियन एयरलाइंस, किंगफिशर, जेट एयर, जेट लाइट की उड़ाने प्रतिदिन हैं।

रेलामार्ग – दिल्ली से कालका के लिए दिन भर में पाँच गाड़ियाँ हैं। हिमालयन क्वीन, कालका शताब्दी, पश्चिम एक्सप्रेस और हावड़ा-दिल्ली-कालका मेल से कालका तक पहुँच सकते हैं (Kasauli Hill Station)। उसके आगे कालका से शिमला लाइन पर धर्मपुर स्टेशन तक ट्रेन से जा सकते हैं। चाहे कालका शिमला पेसेन्जर लें या कालका शिमला एक्सप्रेस, हिमालयन क्वीन लें या शिवालिक डीलक्स एक्सप्रेस, ये गाड़ियाँ पहाड़ियों की ख़ूबसूरती का नज़ारा कराती हुई लगभग डेढ़ घंटे में (लगभग 33 किलोमीटर) धर्मपुर पहुँचा देंगी। उसके बाद हिमाचल रोडबेज की बस लेकर यहाँ से केवल 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित अपने गंतव्य कसौली पहुँच सकते हैं।

सड़क मार्ग – दिल्ली से कसौली की दूरी 264 किलोमीटर है। चंडीगढ़ और कालका से यह क्रमश: 67 व 35 किलोमीटर है। दिल्ली से हिमाचल रोडवेज की बसों के अलावा निजी बसें भी चलती हैं (Tourism Places)। चंडीगढ़ और कालका से भी रोडवेज की नियमित बसें मिलती हैं। दिल्ली से अंबाला तक एनएच-1 पर और अंबाला से कसौली के लिए एनएच- 22 पर जा सकते हैं।

ऐतिहासिक सिटी पैलेस जयपुर

कहाँ ठहरें

कसौली ((Kasauli Tourism)) की लोकप्रियता को देखते हुए यहाँ ठहरने की बेहतर व्यवस्था का अंदाजा लगाया जा सकता है। यानी यहाँ दर्जनों अच्छे होटल, रिजॉर्ट्स, गेस्ट हाउस आदि हैं। हिमाचल टूरिज्म का भी एक हेरिटेज होटल है, जिसका नाम है- ‘द रोज कॉमन’, लेकिन ठहरने की व्यवस्था समय रहते कर लेनी चाहिए (Kasauli Hill Station)। पर्यटक हिमाचल पर्यटन की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर वहाँ स्थित होम स्टे में भी अपनी बुकिंग करा सकते हैं, जो होटलों की तुलना में थोड़े सस्ते हैं।

(इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त जानकारी )

-Mradul tripathi

 

 

 

Share.