कलयुग का वैकुंठ तिरुपति बालाजी मंदिर

0

भारत पर्यटन में धार्मिक स्थलों का बड़ा महत्व है | आन्ध्रप्रदेश के चित्तोड़ जिले के तिरुपति में भगवान वेंकटेश्वर का पावन मंदिर भी ऐसा ही एक धार्मिक पर्यटन स्थल है| भगवान विष्णु के अवतार भगवान वेंकटेश्वर का यह धाम कलियुग वैकुंठम मतलब कलयुग का वैकुंठ भी कहा जाता है | यह मंदिर तिरुमाला मंदिर, तिरुपति मंदिर, तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Temple) जैसे नामों से भी जाना जाता है |वेंकटेश्वर भगवान को बालाजी, गोविंदा और श्रीनिवासा भी कहा जाता है | सेशाचालम  पर्वत माला का हिस्सा तिरुमाला पर्वत समुद्री सतह से 853 मीटर (2799 फीट) की ऊंचाई पर है| मान्यता है कि पर्वत की सात चोटियाँ भगवान आदिशेष के सात सिर को दर्शाती है| इन चोटियों को सेशाद्री, नीलाद्री, गरुदाद्री, अन्जनाद्री, वृशाभाद्री और वेंकटाद्री कहा जाता है|

Image result for Tirupati Balaji

तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Temple ) का मुख्य मंदिर सातवी चोटी वेंकटाद्री पर स्थित है | वेंकट पहाड़ी के स्वामी होने के कारण ही विष्णु भगवान को वेंकटेश्वर कहा जाने लगा। यहाँ श्री स्वामी पुष्करिणी का प्रवित्र पानी से भरा टैंक रखा गया है | तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji ) को “टेम्पल ऑफ़ सेवन हिल्स (Temple of Seven Hills)” भी कहा गया है|

Image result for Tirupati Balaji

तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Temple) का आर्किटेक्चर द्रविड़ियन है | कहा जाता है कि 300 AD में इसे बनाने कि शुरुआत हुई और लगभग एक दशक में इसका निर्माण कार्य पूर्ण हुआ था | तिरुपति बालाजी मंदिर(Tirupati Balaji ) दक्षिण भारतीय वास्तुकला और शिल्प कला का अदभूत उदाहरण हैं। तिरुपति बालाजी मंदिर(Tirupati Balaji ) के गर्भगृह को अनंदा निलयम कहा भगवान् का बना अंतिम मंदिर कहा जाता है |

Image result for Tirupati Balaji
यहाँ श्रद्धालुओ को त्रिगोंडा वेंकमाम्बा अन्नप्रसादम कॉम्प्लेक्स में मुफ्त भोजन करवाया जाता है |

Image result for Tirupati Balaji me bhojan

तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Temple) विश्व का सबसे प्रसिद्ध और धनवान मंदिर है| रोज़ तक़रीबन 50,000 से 100,000 तीर्थयात्री मंदिर के दर्शन करने आते है, और चढ़ावा चढ़ाते है |

Image result for Tirupati Balaji me bhojan

श्रद्धालुओ की यह संख्या फेस्टिवल सीजन में 500,000 से भी उपर पहुंच जाती है|

Image result for Tirupati Balaji

तिरुमाला श्री वेंकटेश्वर मंदिर में साल में कुल 433 त्यौहार मनाये जाते है| इन त्योहारों को “नित्य कल्याणं पच्चा तोरणं” का नाम दिया गया है, यहाँ हर दिन त्यौहार होता है|तिरुपति बालाजी मंदिर(Tirupati Balaji ) में श्री वेंकटेश्वर ब्रह्मोत्सव 9 दिनों तक चलता है जो प्रतिवर्ष अक्टूबर में मनाया जाता |तिरुपति में चंदन की लकड़ी से बनाई गई भगवान वेंकटेश्वर और पद्मावती की मूर्तियां प्रसिद्ध हैं| यहां पर आप चावल के दानों पर अपना नाम लिखवा सकते है| यह एक अनोखी चीज है |

Image result for tirupati balaji shopping

मान्यता है कि प्रभु श्री विष्णु ने कुछ समय तिरुमला स्थित स्वामी पुष्करणी नामक तालाब के किनारे निवास किया था| तभी तो तिरुपति बालाजी मंदिर(Tirupati Balaji ) से सटे पुष्करणी पवित्र जलकुण्ड के पानी का प्रयोग केवल मन्दिर के कार्यों, जैसे भगवान की प्रतिमा को साफ़ करने, मन्दिर परिसर का साफ़ करने आदि के कार्यों में ही किया जाता है| तिरुमला गांव के चारों ओर स्थित पहाड़ियाँ, शेषनाग के सात फनों सी लगती है | इन्हे सप्तगिरि कहा गया है |

Image result for पुष्करणी tirupati balaji

श्रद्धालु यहाँ आकर भगवान् को अपने बाल भेट स्वरुप देते है, जिसे “मोक्कू” कहा जाता है|

Image result for mundan in tirupati balaji

रोज़ लाखो टन बाल जमा कर नीलाम किये जाते है | यहां आने का सही समय सितंबर से फरवरी के बीच है|

Image result for mundan in tirupati balaji

निकटम हवाई अड्डा रेनिगुंटा में है | इंडियन एयरलाइंस की हैदराबाद, दिल्ली और तिरुपति के बीच प्रतिदिन सीधी उडा़न है| रेलवे जंक्शन तिरुपति से बैंगलोर, चेन्नई और हैदराबाद के लिए हर समय ट्रेन है | राज्य के विभिन्न भागों से तिरुपति और तिरुमला के लिए एपीएसआरटीसी की बसें नियमित रूप से आती-जाती है| तिरुपति बालाजी मंदिर(Tirupati Balaji ) विजयवाडा से 435 किलोमीटर, हैदराबाद से 571.9 किलोमीटर , चेन्नई से 138 किलोमीटर, बंगलौर से 291 किलोमीटर और विशाखापत्तनम से 781.2 किलोमीटर दुरी पर स्थित है|

Image result for tirupati balaji
सात पहाड़ियां-
वृशाभाद्री – नंदी का पर्वत, भगवान् शिव का वाहन
अन्जनाद्री – भगवान् हनुमान का पर्वत
नीलान्द्री – नील देवी का पर्वत। कहा जाता है की भक्तो द्वारा जो बाल दिए जाते है उन्हें नील देवी अपनाती है।
गरुदाद्री – गरुड़ पर्वत, भगवान् विष्णु का वाहन।
सेशाद्री – सेषा पर्वत, भगवान् विष्णु और देश
नाराय्नाद्री – नारायण पर्वत, श्रीवरी पदालू यहाँ स्थापित है।
वेंकटाद्री – भगवान् वेंकटेश्वर का पर्वत।

Image result for सात पहाड़ियां tirupati balaji
तिरुमला के दर्शनीय स्थल
श्री वैंकटेश्वर मंदिर

Image result for tirupati balaji
श्री पद्मावती समोवर मंदिर, तिरुचनूर- तिरुपति से पांच किलोमीटर दूर यह मंदिर भगवान वैंकटेश्वर की पत्नी श्री पद्मावती को समर्पित है| तिरुमला की यात्रा तब पूरी नहीं हो सकती जब तक इस मंदिर के दर्शन नहीं किए जाते|

Image result for श्री पद्मावती समोवर मंदिर, तिरुचनूर tirupati balaji

श्री गोविंदराजस्वामी मंदिर- श्री गोविंदराजस्वामी भगवान बालाजी के बड़े भाई हैं| मंदिर का निर्माण संत रामानुजाचार्य ने 1130 ईसवी में की थी| श्री कोदादंरमस्वामी मंदिर- यह मंदिर तिरुपति के मध्य में है जहा सीता, राम और लक्ष्मण की पूजा होती है| चोल राजा ने दसवीं शताब्दी में इसे बनवाया था| श्री कपिलेश्वरस्वामी मंदिर- यह तिरुपति का एकमात्र शिव मंदिर है| तिरुपति से तीन किलोमीटर दूर बना है |

Image result for tirupati balaji

श्री कल्याण वैंकटेश्वरस्वामी मंदिर, श्रीनिवास मंगापुरम– तिरुपति से 12 किलोमीटर पश्चिम में स्थित है| श्री कल्याण वैंकटेश्वरस्वामी मंदिर, नारायणवनम- यह मंदिर तिरुपति से 40 किमी दूर है| श्री वेद नारायणस्वामी मंदिर, नगलपुरम– नगलपुरम का यह मंदिर तिरुपति से 70 किमी दूर है|

Image result for tirupati balaji

श्री वेणुगोपालस्वामी मंदिर, कारवेतीनगरम- तिरुपति से 58 किलोमीटर दूर भगवान वेणुगोपाल और उनकी पत्नियां श्री रुक्मणी अम्मवरु और श्री सत्सभामा अम्मवरु का यह एक उपमंदिर है | श्री चेन्नाकेशवस्वामी मंदिर, तल्लपका- तिरुपति से 100 किलोमीटर दूर श्री अन्नामचार्य (संकीर्तन आचार्य) का जन्मस्थान| करीब 1000 वर्ष पुराने इस मंदिर का निर्माण मत्ती राजाओं द्वारा किया गया था।

Image result for tirupati balaji

श्री करिया मणिक्यस्वामी मंदिर, नीलगिरी- इसे श्री पेरुमला स्वामी मंदिर भी कहते हैं| तिरुपति से 51 किलोमीटर दूर नीलगिरी में स्थित है| श्री अन्नपूर्णा समेत काशी विश्वेश्वरस्वामी मंदिर, बग्गा अग्रहरम- कुशस्थली नदी के किनारे तिरुपति से 56 किलोमीटर की दूरी पर एक प्रसिद्ध स्थान |

स्वामी पुष्करिणी- (पवित्र जलकुंड)

Image result for tirupati balaji स्वामी पुष्करिणी-

आकाशगंगा वॉटरफॉल– तिरुमला मंदिर से तीन किलोमीटर की दुरी पर है |

Image result for आकाशगंगा वॉटरफॉल tirupati balaji

श्री वराहस्वामी मंदिर-पुष्किरिणी के किनारे यह मंदिर भगवान विष्णु के अवतार वराह स्वामी को समर्पित है|

Image result for श्री वराहस्वामी मंदिर tirupati balaji

श्री बेदी अंजनेयस्वामी मंदिर- यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है| टीटीडी गार्डन- गार्डन 460 एकड़ में फैला है| ध्यान मंदिरम- श्री वैंकटेश्वर संग्रहालय जिसकी स्थापना 1980 में हुई |

अभिषेक

Pondicherry Tourism : समृद्ध विरासत का खूबसूरत शहर पांडिचेरी

Alleppey Tourism : प्राकृतिक सौंदर्य और ट्रैडिशनल केरल की झलक ‘अलेप्पी’

Tamil Nadu Tourism : दक्षिण भारत का स्विट्जरलैंड ‘कोडैकनाल’

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.