Best Tourism Place In Indore : रणजीत हनुमान मंदिर

0

संकट कटे मिटै सब पीरा।

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।(Ranjeet Hanuman Temple)

अच्छी पढ़ाई के बाद भी नौकरी नहीं लग रही थी, रणजीत हनुमानजी (Ranjeet Hanuman Temple) के दरबार में आकर 5 मंगलवार दीपक जलाए तो बाबा की कृपा से मुझे अच्छी नौकरी मिल गई |

उम्र  बढ़  रही थी, पर  शादी तय नहीं हो रही थी| हर तरह से निराश होकर मैं रणजीत बाबा के दरबार में आया| यह बाबा का चमत्कार ही है कि आज मैं सफल वैवाहिक जीवन जी रहा हूं| यह महिमा है मेरे रणजीत सरकार की | अब चाहे जो हो जाए मंगलवार और शनिवार रणजीत बाबा (Ranjeet Hanuman Temple ) के दरबार आता ही हूं  |

जो सब जगह हार जाता है, वह रणजीत हनुमान के दर पर सर झुकाता है तो हारी हुई बाज़ी भी जीत जाता है |

ये भावनाएं उन हज़ारों – लाखों भक्तों की हैं, जो रणजीत हनुमान मंदिर (Ranjeet Hanuman Temple) आते हैं | यह महिमा है इंदौर के विश्वप्रसिद्ध रणजीत हनुमान मंदिर की | यहां दिन हो या रात हर समय भक्तों का तांता लगा रहता है | मान्यता है कि यहां मांगी गई कोई भी मुराद अधूरी नहीं रहती है| जो यहां आ गया वह जीत गया इसलिए यहां बजरंगबली रण को जीत लेने वाले रणजीत हनुमान के नाम से जाने जाते हैं |

चमत्कारिक रणजीत हनुमान

रणजीत हनुमान मंदिर (Ranjeet Hanuman Temple) का अस्तित्व : बात है वर्ष 1907 की, जब गुमाश्ता नगर क्षेत्र में बसाहट नहीं हुई थी, तब पहलवानी का शौक रखने वाले अल्हड़सिंह भारद्वाज हनुमानजी के उपासक थे। उन्होंने तब इस वीरान वन क्षेत्र में पतरे की ओट लगाकर हनुमानजी की प्रतिमा स्थापित कर दी और छोटा-सा अखाड़ा बना दिया। इस तरह रणजीत हनुमान मंदिर अस्तित्व में आया। स्वर्गीय अल्हड़सिंह के पोते विजयसिंह भारद्वाज बताते हैं कि इस मंदिर से जुड़े अनगिनत किस्से हैं। रामनवमी और हनुमान जयंती पर यहां विशेष श्रृंगार, अनुष्ठान, पूजा-पाठ और आरती की जाती है।

अनोखा मंदिर

रणजीत  हनुमान मंदिर (Ranjeet Hanuman Temple) बेहद भव्य है, परन्तु विशेष बात यह है कि इस मंदिर में कोई द्वार नहीं है, सड़क पर खड़ा भक्त भी बाबा के पुण्य दर्शनों का लाभ ले सकता है | एक विशेष बात यह है कि रणजीत बाबा की ऐसी महिमा है कि आप दिन या रात में कभी भी किसी भी समय जाएं, आपको बाबा का दरबार कभी खाली नहीं मिलेगा |

हजारों सुंदरकांड और हनुमान चालीसा

रणजीत हनुमान मंदिर (Ranjeet Hanuman Temple) में आने वाले भक्तों के लिए हज़ारों की संख्या में सुंदरकांड और हनुमान चालीसा की किताबें उपलब्ध रहती हैं, जिससे आने वाले भक्त बड़ी ही श्रद्धा से मंदिर प्रांगण में बैठकर बाबा की भक्ति का आनंद लेते हुए इनका पाठ करते हैं |

बाबा का श्रृंगार मन मोह लेता है

रणजीत हनुमान बाबा (Ranjeet Hanuman Temple) का चोला यानी श्रृंगार बड़ा ही आकर्षक और मन को मोह लेने वाला होता है | कभी कान्हा, कभी महादेव, कभी बाल रूप में उनका श्रृंगार इतना आकर्षक होता है कि आने वाले भक्त बस देखते ही रह जाते हैं | इतना ही नहीं रणजीत हनुमान मंदिर प्रांगण में बजरंगबली दसमुखी  रूप में विराजमान हैं, जिनके दर्शन भक्तों को साक्षात् हनुमानजी के समीप होने की सुखद अनुभूति करवाते हैं | यहां महादेव और माता रानी के साथ अन्य मंदिर भी हैं, जिनका दर्शन भक्तों को आनंद के सागर में ले जाता है |

मनोकामना होती है पूर्ण

इस मंदिर का नाम विश्वविख्यात इसी कारण है क्योंकि इस मंदिर से आज तक कोई खाली हाथ वापस नहीं गया | यहां मांगी मन्नत सदैव पूरी होती हैं | ऐसा कहा जाता है कि जो दुनिया से हार जाता है, उसे इस दर पर सिर झुकाने से विजय मिलती है| यही कारण  है कि देश ही नहीं विदेशों से भी लाखों भक्त हर साल रणजीत बाबा के श्री चरणों में सिर झुकाने आते  हैं | सारे भारत में रणजीत हनुमान (Ranjeet Hanuman Temple) ही एकमात्र मंदिर हैं जहा शनिवार के दिन दोपहर में एक विशेष आरती होती हैं इसमें विशेष रूप से हज़ारों की संख्या में महिलाये मौजूद रहती हैं इस आरती को मनोकामना पूर्ण आरती कहा जाता हैं ऐसी मान्यता हैं इस आरती में शामिल होकर जो मन्नत की जाती हैं उसे बजरंगबली ज़रूर पूर्ण करते हैं |

 

कब जाएं

शास्त्रों  के मतानुसार, बजरंगबली साक्षात रूप में धरती पर मौजूद हैं और जब भक्त इस मंदिर में आते हैं तो उन्हें इस बात का अहसास होता है कि यहां रणजीत  बाबा (Ranjeet Hanuman Temple) उनके अंग संग हैं इसलिए यहां हर समय श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है, लेकिन यदि आप विशेष रूप से यहां दर्शन करने आ रहे हैं तो मंगलवार या शनिवार को ज़रूर आएं| इस दिन रणजीत  बाबा का विशेष श्रृंगार होता है| साथ ही विशेष आरती भी होती है, जिसमें शामिल होने का अपना ही आनंद है | साथ ही यहां का सबसे बड़ा पर्व हनुमान जयंती और रामनवमी है, जिसमें रणजीत बाबा की सवारी नगर भ्रमण पर निकलती है और साथ में हज़ारों भक्त जयकारा करते हुए बाबा के साथ चलते हैं |

व्यवस्थाएं

यहां आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह की असुविधा न हो, इसके लिए मंदिर प्रांगण में प्रशासन ने सहायता काउंटर ,पूछताछ काउंटर , बैठक व्यवस्था, भोजन शाला, इत्यादि अनेक व्यवस्थाएं कर रखी हैं | कतारबद्ध दर्शन हो सके, इसके लिए निरंतर सेवादार व्यवस्था में लगे रहते हैं| रणजीत बाबा (Ranjeet Hanuman Temple) का दरबार इतना आलौकिक है कि दिन में 2 बजे हो या रात के 3 बजे, आप जब चाहें बाबा के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त कर सकते हैं |

कैसे पहुंचें

अब आपका मन भी कर रहा होगा जल्द से जल्द रणजीत  हनुमान मंदिर के दर्शन का | तो हम आपको बताते हैं कि आप वहां तक कैसे पहुंच सकते हैं |

रेलवे  स्टेशन और एयरपोर्ट दोनों से ही रणजीत हनुमान मंदिर पहुंचने के लिए सिटी बस, ऑटो और प्राइवेट टैक्सी उपलब्ध हैं |

अन्य शहरों से कनेक्टिविटी

इंदौर रेलवे का दिल्ली, मुंबई ,कोलकाता और चेन्नई के साथ भारत के सभी राज्यों के सभी बड़े-छोटे शहरों से सीधा जुड़ाव है | इसके साथ महाराष्ट्र,गुजरात,राजस्थान, छत्तीसगढ़ और  उत्तर प्रदेश सहित दूसरे राज्यों से भी सीधी बस सेवा का संचालन रोज़ होता है |

इंदौर में कोलकाता,पुणे,बेंगलुरु,चेन्नई, अहमदाबाद, श्रीनगर, लखनऊ, दिल्ली, मुंबई, जयपुर, रायपुर सहित अनेक शहरों से सीधी फ्लाइट सेवा उपलब्ध हैं |

रेलवे स्टेशन से मंदिर आने का मार्ग

यहां  click  करें – https://bit.ly/2BzHQy5 –

एयरपोर्ट से मंदिर आने का मार्ग

यहां  click  करें – https://bit.ly/2T0qbqg

ठहरने की व्यवस्था

इंदौर में विशेष रूप से साउथ तुकोगंज,पलासिया,महात्मा गांधी मार्ग, सरवटे बस स्टैंड और गंगवाल स्टैंड पर अनेक होटल और लॉज़ हैं, जो आने वाले पर्यटकों के बजट के अनुसार उन्हें आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं | इसके अलावा कई फाइव स्टार होटल्स भी हैं| अब यह पर्यटकों की सुविधाओं की मांग पर निर्भर है कि उन्हें कैसा होटल चाहिए |

इंदौर विशेष

वैसे हमारा आपको यह सुझाव है कि यदि आप  रणजीत  हनुमान मंदिर (Ranjeet Hanuman Temple) दर्शन के लिए आते हैं तो मंदिर के पास होलकर राजवंश के वैभव का प्रतीक लालबाग, एशिया के सबसे बड़े ‘बड़ा गणपति’ ,बिजासन माता टेकरी और हिंकारगिरि में तफ़रीह करने ज़रूर जाएं, जो रणजीत  हनुमान मंदिर से कुछ दूरी पर ही हैं | तो जल्दी आइये रणजीत बाबा आपको बुला रहे हैं |

Best Tourism Place In Indore: खजराना मंदिर

Video : इंदौर के खजराना गणेश मंदिर में भक्तों का सैलाब

खजराना गणेश को दुबई के भक्त की भेंट

Share.