जैसा मन चाहा, वैसा थोपा टैक्स

0

गुड्स एंड सर्विसेज़ टैक्स या वस्तु एवं सेवा कर ( जीएसटी)  भारत में 1 जुलाई  2017 से लागू एक महत्वपूर्ण अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था है, जिसे सरकार और कई अर्थशास्त्रियों ने  स्वतंत्रता के पश्चात् सबसे बड़ा आर्थिक सुधार बताया है| वहीं कांग्रेस का कहना है कि आज स्थिति यह हो गई है कि हर वस्तु पर मनचाहा टैक्स लगाया जा रहा है| इस मुद्दे पर कार्टूनिस्ट का नजरिया|

Share.