सपनों के शहर में नहीं आए

0

यूं तो प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान इंदौर को अपने सपनों का शहर बताते हैं और हमेशा इस शहर के लिए तत्पर रहने की बात करते हैं, लेकिन जब इंदौर को इतनी बड़ी सौगात मिलते समय मुख्यमंत्री का नदारद रहना उनके बड़े-बड़े वादों और मंशा के बीच अंतर दर्शाता है|

इंदौर में एम्स की तर्ज पर बनने वाले सुपर स्पेशियलिटी सेंटर के उद्घाटन समारोह में यूं तो केंद्रीय मंत्री और केंद्रीय सचिव सहित लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन खुद उपस्थित रहीं, लेकिन मध्यप्रदेश से इस आयोजन में मध्यप्रदेश सरकार का एक भी प्रतिनिधि नहीं पहुंचा|

प्रोटोकॉल के अनुसार, इस कार्यक्रम में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री की अगवानी के लिए प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री और स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव को उपस्थित होना था, लेकिन स्वास्थ्य मंत्री ने सीधे लोकसभा स्पीकर को कॉल कर नहीं आ पाने की सूचना दी और बाद में कार्यक्रम से किनारा कर गए| मुख्यमंत्री ने भी ऐन वक़्त पर इस कार्यकम में आने से व्यस्तताओं का बहाना कर इनकार कर दिया| संभागायुक्त संजय दुबे ही एक मात्र ऐसे अधिकारी थे, जो इस आयोजन में राज्य सरकार की ओर से उपस्थित थे|

इतने बड़े आयोजन में ऐसे में प्रदेश सरकार के बड़े प्रतिनिधियों का अनुपस्थित होना कई सवालों को भी जन्म देता है जबकि इस केंद्र के निर्माण में 40 प्रतिशत राशि का वहन राज्य सरकार ही कर रही है| ऐसे में मुख्यमंत्री का अपने सपनों के शहर में नहीं आ पाना एक बहाना था या उनकी कोई मजबूरी ये तो वे ही जानें, लेकिन अपने प्रतिनिधियों को अपने बीच नहीं पाकर इतने बड़े कार्यक्रम में इंदौर का मुंह छोटा जरूर हो गया|

Share.