रोने रोने में फर्क है साहब!

0

किसान नेता राकेश टिकैत के आंसुओं को बीजेपी के हर छोटे-बड़े नेता ने ड्रामा करार दिया था वही मोदी का सदन में रोना उन्हें देश भक्ति लगा

Share.