Today Cartoon : हम खुद ही है भाग्य विधाता…

0

हम खुद ही है भाग्य विधाता
हमको संविधान नहीं भाता,
बदल देते हैं हर वो नियम-कानून
जो मन को हमारे नहीं भाता

Today Cartoon : सजा-ए-प्रदुषण

Share.