भुखे-बेरोजगारों के देश में हजार करोड़ की संसद

0

चारों तरफ से आर्थिक मंदी झेल रहे देश में हजार करोड़ के संसद भवन की क्या आवश्यकता थी? यह समझ से परे है, लेकिन क्या यह संसद भूखे, नंगों और बेरोजगारों को एक वक्त की रोटी दे पाएगा?

Share.