मीडिया का अटेंशन,सब टीआरपी का खेल है

0

टीआरपी के लिए आज भारतीय मीडिया इतना गिर गई है कि जो खबर ना हो उसे भी खबर बना दें और जो खबर हो उससे बिल्कुल बेखबर हो ले

गांधी जयंती: बढ़ती हैवानियत और गांधी के सपने

Share.