निर्भया से मनीषा तक कुछ नहीं बदला

0

बलात्कार पर बलात्कार और पुलिस प्रशासन सिर्फ लीपापोती के बाद आंकड़ों को दुरुस्त करने में लगा है ,देश की बेटियों को न कल सुरक्षा थी ना आज है

हाथरस: क्या सब कुछ भगवान का किया धरा?

Share.