Today Cartoon : इंसान की मन्नत- बेज़ुबान की चीख

0

मेरी ख़्वाहिशों के अंगारो पर वो बेज़ुबान झुलस गया ,
खुशियां मिली इंसान को, पर वो जानवर तड़प -तड़प के जल गया,
सच कहा किसी ने इंसान स्वार्थ के लिए वहशी दरिंदा बन गया |

Today Cartoon : मेरा घर…..

Share.