क्याआत्मनिर्भर भारत का सपना सपना ही रहेगा?

0

सरकारी आती जाती रहती है लेकिन उनके बोल वचन सदा एक जैसे होते हैं, दशकों पहले आत्मनिर्भर भारत बनाने के वादे किए गए और दशकों बाद उन्हें दोहराया गया लेकिन सिर्फ बोलने वालों के चेहरे बदलते रहे जमीनी हकीकत में आत्मनिर्भर भारत शायद सपना ही है

आफतों का सैलाब,डूबायेगा बीजेपी की नाव

Share.