ऐसे बढ़ाएं स्मार्टफोन की लाइफ

0

स्मार्टफोन आज हम सभी की ज़िन्दगी का एक अभिन्न अंग बन चुका है। यदि हमारे फ़ोन में कोई भी दिक्कत आ जाए तो वह हमारी पूरी दिनचर्या को प्रभावित कर देता है इसलिए इन बातों का ध्यान रखना हमारे लिए बहुत आवश्यक है।

ओवरचार्ज न करें

अपने स्मार्टफोन को ज्यादा देर चार्ज करने की आदत न डालें। इससे ओवरहीटिंग की समस्या पैदा होती है। हमेशा फोन के चार्ज होने के बाद चार्जर याद से निकालें।

ऊपरी जेब  में फोन न रखें

डॉक्टर्स का कहना है कि किसी भी मोबाइल ट्रांसमिटिंग डिवाइस को चेस्ट पॉकेट में रखने से बचना चाहिए। इससे स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं तो यह कोशिश करें कि फ़ोन को पेंट के पॉकेट में ही रखें।  इससे वह सुरक्षित भी रहेगा।

चार्जिंग के दौरान हेडफोन का उपयोग न करें

हाल में कई रिपोर्ट्स में इस बात का खुलासा किया गया कि चार्जिंग के दौरान फोन में हेडफोन लगाकर म्यूजिक सुनना बिजली से मौत का कारण भी बन सकता है। दरअसल, इस साल ‘स्मार्टफोन इलेक्ट्रोक्यूशन’ से कई मौतों की रिपोर्ट देखने को मिली है।

स्मार्टफोन को पास रखकर न सोएं

सोते समय अपने स्मार्टफ़ोन को पास न रखें। खासकर तकिये के नीचे तो बिल्कुल न रखें। यह बहुत खतरनाक है, और इसे लेकर मेडिकल डिबेट भी चल रही है कि मोबाइल डिवाइस के सिग्नल से नींद पर बुरा असर पड़ सकता है।

 अनलॉक न छोड़ें

फोन में हमारी कई सारी चीजें पर्सनल होती हैं। इनमें आपकी निजी तस्वीरों से लेकर बैंकिंग डेटा जैसी चीजें शामिल हो सकती हैं इसलिए हमेशा अपने फोन को मजबूत पासकोड या फिंगर प्रिंट के जरिये लॉक करके रखें।

चार्जिंग के दौरान केस और कवर हटा दें

जब तापमान ज्यादा हो तो केस को हटा देना चाहिए क्योंकि यह फोन को और भी ज्यादा गर्म करता है। यह चीज हमेशा संभव नहीं है, लेकिन ऐसा करना आपके स्मार्टफोन की सेहत के लिए अच्छा रहता है।

फोन को सीधे सूर्य के संपर्क में न लाएं

स्मार्टफोन को सीधे सूर्य की रोशनी में रखने से बचना चाहिए। खासकर चार्जिंग के वक़्त । इसके अलावा कार के डैशबोर्ड जैसे गर्म स्थानों पर भी रखने से बचना चाहिए। इससे हीटिंग की समस्या बढ़ती है। आमतौर पर चार्जिंग के लिए शून्य से 45 डिग्री सेंटीग्रेड का तापमान आदर्श है।

अज्ञात सोर्स से एप डाउनलोड न करें

ऑफिशियल स्टोर के अलावा किसी भी अननोन सोर्स से एप डाउनलोड न करें। ये न केवल आपका डेटा चुराते हैं, बल्कि वायरस या मालवेयर इंस्टॉल कर आपके स्मार्टफोन को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। ये एप ज्यादातर स्पाईवेयर होते हैं, जो आपकी हर एक्टिविटी को ट्रैक करते हैं।

ये छोटे-छोटे टिप्स अपने फ़ोन की ज़िन्दगी को और बढ़ा सकते हैं। इससे आपका मोबाइल ठीक तरह से प्रोसेस भी करेगा और आप भी उसका उपयोग करने में सहूलियत महसूस करेंगे।

Share.