WhatsApp इस्तेमाल करने वालों के लिए जरूरी खबर

0

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के दौरान सोशल मीडिया (Social Media) पर फर्जी खबरों और गलत जानकारियों को फैलने से रोकने के लिए फेसबुक ने कड़ा रुख इख्तियार कया है। अब इसी कड़ी में सोशल मैसेजिंग साइट व्हाट्सएप (WhatsApp) ने भी इस संबंध एक नया फीचर लांच किया है। व्हाट्सएप (WhatsApp) की तरफ से मंगलवार को ‘चेकपॉइंट टिपलाइन’ (Checkpoint Tipline) पेश की गई। इसके जरिए अब उपभोक्ता किसी भी जानकारी की प्रमाणिकता को जांच सकते हैं। इस सुविधा की शुरुआत गलत जानकारियों को फैलने से रोकने के लिए की गई है।

WhatsApp इस्तेमाल करने वालों के लिए जरूरी खबर

Image result for whatsapp

व्हाट्सएप की मालिकाना कंपनी फेसबुक ने इस संबंध में एक बयान जारी किया है। फेसबुक ने अपने इस बयान में कहा कि, “इस सेवा को भारत के एक मीडिया कौशल स्टार्टअप ‘प्रोटो’ ने पेश किया है। Checkpoint Tipline गलत जानकारियों एवं अफवाहों का डाटाबेस तैयार करने में मदद करेगी। इससे चुनाव के दौरान ‘चेकपॉइंट’ के लिए इन जानकारियों का अध्ययन किया जा सकेगा।” फेसबुक की तरह व्हाट्सएप ने भी अब फर्जी ख़बरों से निपटने की पूरी तैयारी कर ली है। हालांकि फेसबुक ने अपने प्लेटफॉर्म से कई फर्जी खातों, पेजों और समूहों को हटा दिया है। व्हाट्सएप की ‘चेकपॉइंट’ सर्विस के बारे में फेसबुक ने आगे कहा, “चेकपॉइंट एक शोध परियोजना के तौर पर चालू की गई है जिसमें व्हाट्सएप की ओर से तकनीकी सहयोग दिया जा रहा है।”

Whatsapp लाया दमदार फीचर

Image result for whatsapp Checkpoint tipline

दरअसल देश में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) का दौर चल रहा है। चुनावी माहौल में कई लोग सोशल मीडिया साइट का गलत इस्तेमाल कर गलत जानकारियों को फैलाने का कार्य करते हैं। इन्ही फ़र्ज़ी ख़बरों की रोकथाम के लिए फेसबुक की तरफ से कड़ा कदम उठाया गया था। फेसबुक के बाद अब व्हाट्सएप ने भी इस दिशा में अपना कदम उठाया है। इस बारे में फेसबुक ने आगे कहा, “देश में लोगों को मिलने वाली गलत जानकारियों या अफवाहों को वे व्हाट्सएप के +91-9643-000-888 नंबर पर Checkpoint Tipline को भेज सकते हैं।” कम्पनी ने बताया कि कोई भी जानकारी जब उपभोक्ता द्वारा टिपलाइन को भेजी जाएगी, तब प्रोटो अपने प्रमाणन केंद्र पर इसकी सत्यता की जांच करेगा। भेजी गई जानकारी के सही या गलत होने की पुष्टि होने के बाद उपयोक्ता को सूचित किया जाएगा।

इस डिवाइस के लिए WhatsApp बंद!

Related image

इस तरह उपभोक्ता को यह सूचना मिलेगी कि उसे प्राप्त होने वाला सन्देश सही, गलत, भ्रामक या विवादित में से किस तरह का है। इस तरह गलत जानकरियों और फर्जी ख़बरों को फैलने से रोका जा सकेगा। प्रोटो का प्रमाणन केंद्र हिंदी, तेलुगू, बांग्ला और मलयालम भाषा में संदेशों को जांच सकता है। इसके वाला तस्वीर, वीडियो और लिखित संदेश की पुष्टि करने में प्रोटो का प्रमाणन केंद्र सक्षम है।

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.