बिजली गिरने से पहले लग जाएगा पता

0

हर साल कर्नाटक में औसतन 70 लोगों की मौत बिजली गिरने से होती है| पिछले 9 सालों में बिजली गिरने से मरने वालों की संख्या 625 बताई गई है| इसमें इस साल फरवरी-मार्च में मरने वाले 19 लोग भी शामिल हैं| यहां हर वर्ष बिजली गिरने से मवेशियों और घरों को नुकसान पहुंचता है|

ऐसी दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कर्नाटक के स्टेट नैचुरल डिजास्टर मॉनिटरिंग सेंटर (KSNDMC)  और रेवेन्यू डिपार्टमेंट ने शुक्रवार को एक नया मोबाइल एप ‘सिदिलु’ लॉन्च किया है, जो स्थान विशेष के हिसाब से बिजली गिरने का पूर्वानुमान देगा|

इस एप को गूगल प्ले स्टोर और एपल स्टोर से फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है| यह एप बिजली गिरने के 45 मिनट पहले ही वॉर्निंग जारी कर देगा| यह वॉर्निंग लाल रंग से लिखी होगी, जिसमें बताया जाएगा कि यूजर डेंजर जोन में हैं और वहां 1 स्क्वेयर किमी के एरिया में बिजली गिरने की 90 पर्सेंट तक आशंका है|

इसी तरह एप में नारंगी रंग की वॉर्निंग बताएगी कि 5 स्क्वेयर किमी के एरिया में और पीली वॉर्निंग बताएगी कि 15 स्क्वेयर किमी के एरिया में बिजली गिरने की आशंका है| स्क्रीन पर आने वाला ग्रीन पॉप अप बताएगा कि यूजर उस इलाके में सेफ है|

Share.