Talented View : नमो की धाक-पाकिस्तान ख़ाक

0

प्रधानमंत्री मोदी की छवि भारत में विकासवादी पुरुष के साथ ही “हिन्दू राष्ट्रवादी” की भी है। भले ही मुस्लिमों के लिये भारत के लिए मोदी ने अनेक काम किये है लेकिन उसके बाद भी उनकी छवि को विरोधी ‘मुस्लिम विरोधी’ ही बनाकर रखतें है। 2002 के लिए उन्हें देश की सर्वोच्च अदलत से “क्लीन चिट” मिली हुई है लेकिन उसके बाद भी गाहे-बगाहे ऐसे हालात पैदा किये जातें है जिससे मोदी की छवि को मुस्लिम विरोधी की तरह पेश जा सके।

Talented View : बाबा का योग, क्या नहीं भगाए रोग ?

लेकिन प्रधानमंत्री मोदी भी विपक्ष के इस एजेंडे से निपटने में महारथ हासिल कर चुके है। भारत मे उनकी छवि चाहे कैसे ही बनाई जाए लेकिन प्रधानमंत्री मोदी दुनिया को ये भरोसा दिलाने में कामयाब हुए है कि उनका असली एजेंडा ‘सबका साथ-सबका विकास’ ही है। मोदी की इस छवि पर मुहर लगायी है मुस्लिम देशों ने। अपने देश के सर्वोच्च सम्मान मोदीजी को देकर मुस्लिम देशों ने दुनिया मे स्पष्ट संदेश दिया है कि मोदीजी के प्रति उनके मन मे कोई पूर्वाग्रह शेष नही रह गया है।

हाल ही में दुबई द्वारा अपना सर्वोच्च उन्हें दिए जाने से पाकिस्तान जैसे देश तिलमिला उठें है। अब तक प्रधानमंत्री को मालदीव का ‘रूल ऑफ निशां इज्जुदिनन’, सऊदी अरब का ‘किंग अब्दुल अज़ीज़ शेष अवार्ड’, अफगानिस्तान का ‘अमीर अमानुल्लाह खान अवार्ड’, फिलिस्तीन का ‘द ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट ऑफ फिलिस्तीन’, बहरीन का ‘किंग हमद आर्डर ऑफ रेनेसेन्स’ और यूएई का ‘आर्डर ऑफ ज़ायद’ जैसे सर्वोत्कृष्ट सम्मान मिल चुकें है।

Talented View : मूर्तियों पर सियासत गलत

मुस्लिम देशों द्वारा लगातार दिए जा रहे इन सम्मानों पर दुनिया के कूटनीतिज्ञ हैरान है। मुस्लिम देश अपना सर्वश्रेष्ठ सम्मान नरेंद्र मोदी को दे रहे है ये खबर अनेक देश पचा नही पा रहे है। पाकिस्तान के एक सीनेटर ने अपनी यूएई यात्रा सिर्फ इसलिए स्थगित कर दी क्योंकि यूएई ने मोदी को अपना सर्वोच्च सम्मान दिया है। कश्मीर में धारा 370 हटाने को लेकर एक मुस्लिम देश ने भी पाकिस्तान का साथ नही दिया। पाकिस्तान को ये बात अंदर तक चुभ गयी है। अब तक सिर्फ मजहब की बुनियाद पर पाकिस्तान कश्मीर मामले पर मुस्लिम देशों का समर्थन प्राप्त कर लेता था।

लेकिन प्रधानमंत्री मोदी की कूटनीति के सामने पाकिस्तान इस बार ‘मुस्लिम ब्रदरहुड’ का दांव भी नही खेल पा रहा है। विश्व की राजनीति में हल्के-हल्के आ रही इस आहत ने कई देशों के कान खड़े कर दिए है। भारत को मिल रहे इस अप्रत्याशित समर्थन से हर कोई अचंभित है। भारत के “हिन्दू हृदय सम्राट” को मुस्लिम देशों में मिल रहा प्यार, सम्मान कईयों की आंख में कांटे की तरह चुभ रहा है। नरेंद्र मोदी विश्व मे ऐसे अकेले नेता है जिनका सम्मान दो जानी दुश्मन देश, इसराइल और फिलिस्तीन, समान मात्रा में करते है।

Talented View : भ्रष्टाचार पर मोदी का वार

6 साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री की ये एक अनोखी उपलब्धि है। राजनीति से ऊपर उठकर देखा जाए तो इस उपलब्धि की इतनी चर्चा नही हुई जितनी होनी चाहिये थी। 1 दशक पहले किसी ने सोचा भी नही था कि मुस्लिम देश कश्मीर पर पाकिस्तान को छोड़कर भारत के साथ खड़े हो जायेंगे। इस अनूठी उपलब्धि पर भारत का कद दुनिया में यकीनन बढ़ा है। इस अभूतपूर्व परिवर्तन पर हमनें ज्यादा ध्यान नही दिया है लेकिन इतिहास इन घटनाओं पर जरूर न्याय करेगा। ये घटनाएं वैश्विक राजनीतिक परिप्रेक्ष्य को सदा के लिए बदलकर रख देंगी।

Share.