website counter widget

Talented View : भारतीय मतदाता का अंतर्द्वंद्व

0

इस बार चुनाव में किसे वोट दिया जाए, यह प्रश्न भारतीय मतदाता के अंतर्द्वंद्व की वजह बना हुआ है। हर बार की तरह इस बार भी विकल्पों की कमी साफ दिखाई दे रही है। एक तरफ चांदी का चम्मच मुंह में लेकर पैदा हुआ राजकुमार है तो दूसरी तरफ कभी भी झोला उठाकर निकलने की बात कहने वाला फ़क़ीर। एक की पार्टी सत्ता दोबारा पाने के लिए संघर्षरत है तो दूसरे की पार्टी सत्ता में बने रहने के लिए। एक तरफ ‘गरीबी हटाओ’ का नारा दादी के ज़माने से लगाया जा रहा है तो दूसरी तरफ़ नौकरी मांगने पर पकौड़े तलने की सलाह दी जाती है।

Talented View : भोपाल सीट से इस बार मुकाबला रोचक

एक सिर्फ अपने खानदान और सरनेम के बूते खड़ा दिखाई देता है तो दूसरा खानदान को हाशिये पर डालकर। एक ने अज्ञात कारणों से शादी ही नहीं की तो दूसरे ने अज्ञात कारणों से शादी तोड़ दी। दोनों पार्टियों के समर्थक भी अजीब पसोपेश में फंसे हुए हैं। एक पार्टी का समर्थक दूसरे को अपने नेता जैसा पुत्र होने की दुआएं (बद) देता है तो दूसरी पार्टी वाले उन्हें अपने नेता जैसा जमाई मिलने की बात कहते हैं। दोनों की पढ़ाई-लिखाई भी सवालों के घेरे में है। एक विदेश में पला-बढ़ा है तो दूसरा स्वदेस में, लेकिन दोनों की डिग्री आज तक किसी ने नहीं देखी। एक बात-बात पर निजी खर्च पर छुट्टियां मनाने विदेश निकल जाता है तो दूसरा सरकारी खर्च पर। दोनों नेताओं के अंध समर्थकों की भी कोई कमी नहीं है।

एक के समर्थक ‘भक्त’ कहलाते है तो दूसरे के ‘चमचे’। भक्त भगवान की बुराई सुनने पर काटने को दौड़ते है तो चमचे अपने मालिक के खिलाफ सुनने पर हिंसक हो जाते है। एक अपने आप को हिन्दू कहता है, लेकिन राममंदिर पर चुप्पी साध लेता है तो दूसरा अभी उलझन में ही है। उलझन यह है कि दादा, दादी और माताजी तीनों का धर्म अलग है इसलिए ये वर्णसंकर भी धर्म के मामले में अक्सर गफलत में पड़ जाते हैं। एक हिंदुत्व के नाम पर जनता को मूर्ख बनाता है तो दूसरा धर्मनिरपेक्षता के नाम पर। एक आंख मारने में माहिर है तो दूसरा नकल निकालने में।

एक आलू से सोना बनाने की कला जानता है तो दूसरा जुमले बेहतरीन बना लेता है। एक 72 हजार रुपए का झांसा देकर चुनाव जीतना चाहता है तो दूसरे के 15 लाख जनता पर अभी तक उधार ही है। एक नेता सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर भगवान राम के अस्तित्व को ही नकार देते हैं तो दूसरे राम के नाम पर वोट बटोरकर अयोध्या में झांकने तक नहीं जाते। एक पार्टी के नेता पाकिस्तान जाकर उनसे चुनाव जीतने में मदद मांगकर आ जाते हैं तो दूसरे स्वयं पाकिस्तान जाकर दावत उड़ा आते हैं। एक को देखकर समझ नहीं आता कि वे चुनाव जीतकर आखिर करने क्या वाले है तो दूसरे को देखकर लगता है कि वे चुनाव जीतने के लिए ही सबकुछ करते हैं।

Talented View : मोदी को हराना किसी के लिए भी टेढ़ी खीर है

ऐसा भी नहीं है कि दोनों में सिर्फ भिन्नताएं हैं, कई समानताएं भी दोनों में है। दोनों अपनी पार्टी के निर्विरोध नेता हैं। दोनों नेता अपनी पार्टियों में बुज़ुर्गों को हाशिये पर डाल देते हैं। दोनों को विदेश घूमने और अच्छे कपड़े पहनने का शौक है। दोनों नेता दिन-रात चुनाव के बारे में सोचते रहते हैं। दोनों का बचपन अज्ञातवास में गुजरा है। दोनों की तरह का बेटा-जमाई देश में किसी को नहीं चाहिए। दोनों नेता सिर्फ अपनी पार्टी में ही पूजनीय है, लेकिन दोनों ही नेता देश का भरपूर मनोरंजन करते हैं। एक की पार्टी जहां दशकों से सत्ता में है वहीं दूसरे की पार्टी महज कुछ साल से सत्ता में आई है। दोनों के राज में देश के युवा परेशान हैं। एक अपने परिवार के आगे नहीं सोच पाता है तो दूसरा परिवार के अलावा हर किसी की सोचता है।

एक नेता को सुनकर हंसी रोकना मुश्किल हो जाता है तो दूसरे को सुनकर गुस्सा काबू में करना मुश्किल हो जाता है। एक नेता को उसकी पार्टी वाले चुनावी मोड में लाने के लिए बेताब है तो दूसरे को चुनावी मोड से निकालना बड़ी चुनौती है। एक नेता को देश की जनता हास्य के विषय के तौर पर देखती है तो दूसरे को किसी भी विषय पर हास्य निर्माण करने वाले के तौर पर। एक नेता को सुनकर आप एक पार्टी को वोट करने का विचार करते हैं और दूसरे को सुनकर आप उसी पार्टी को वोट करने के लिए मजबूर हो जाते हैं।

न्यायपालिका में 3 करोड़ के लगभग मुकदमे लंबित हैं और 21 हजार के करीब जज हैं। इसके बाद भी देश में जजों की कमी महसूस की जा रही है। ऐसे में 125 करोड़ जनता के लिए देश में सिर्फ दो ही विकल्प होंगे तो लोकतंत्र का क्या हाल होता होगा, यह आसानी से समझा जा सकता है। लोकतंत्र की यही विडंबना भी है कि अच्छे विकल्पों की कमी चुनाव के समय जनता को बहुत खलती है। इस शून्य को भरे बिना लोकतंत्र व्यावहारिकता कभी सार्थक नहीं हो पाएगी।

Talented View : “खोदा पहाड़, निकली चुहिया..”

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.