website counter widget

Talented View : मुर्गे के साथ दूध बेचेगी कमलनाथ सरकार!

0

कहते हैं जब इंसान का दौर बुरा चल रहा हो तब उसे उड़ते तीर नही लेने चाहिए। बुरा वक्त धीरे-धीरे ही सही, लेकिन गुज़र जाता है लेकिन ये उड़ते तीर लंबे समय का दर्द दे जाते हैं। ऐसी ही बुरी आदतें लगता है मध्यप्रदेश सरकार को लग गयी है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने योजना बनाई है कि एक ही दुकान पर सरकार ‘कड़कनाथ’ और दूध बेचेगी। और इधर दिग्विजयसिंह ने हिंदुत्व पर विवादित बयान देते हुए कह डाला कि मंदिरों में रेप होतें है।

Talented View : नमो-नमो

‘कड़कनाथ’ दरअसल एक देसी प्रजाति का मुर्गा होता है जो झाबुआ और धार जिलों में पाया जाता है। इस मुर्गे में कोलेस्ट्रॉल अत्यल्प होता है जबकि प्रोटीन अत्यधिक। कहा जाता है कि इस वजह से इस मुर्गे का खून कालिमा लिए होता है। ईन वजहों से कड़कनाथ की बहुत मांग है। इसी मांग को पूरा करने के लिए कमलनाथ सरकार ने पूरे प्रदेश में दुकानें खोलने की योजना बनाई है जिसमें कड़कनाथ के साथ ही दूध भी बेचा जायेगा। अब कड़कनाथ के काउंटर पर दूध क्यों बेचा जाएगा इसका जवाब कमलनाथ ही दे सकतें है।

हालांकि भाजपा ने इसका विरोध शुरू कर दिया है। मुर्गे के साथ दूध बेचने से धार्मिक भावनाएं आहत होने का आरोप भाजपा ने लगाया है। बात सही भी है की दूध हर घर की जरूरत है ये बात समझी जा सकती है लेकिन कड़कनाथ क्यों दूध के बगल में लगा दिया गया है? सिर्फ कड़कनाथ बेचने में कोइ समस्या आ रही थी क्या? कमलनाथ ने ऐसा अजीबोगरीब कॉम्बिनेशन न जाने क्यों बनाया है? ये भी समझ नही आ रहा है ‘कड़कनाथ’ के चक्कर में ‘कमलनाथ’ की बुद्धि क्यों भ्रष्ट हो रही है?

भाजपा को बैठे बिठाए विरोध का मुद्दा पकड़ाने में दिग्विजय भी कहाँ पीछे रहने वाले थे? उन्होंने भी विवादास्पद बयान देते हुए हिंदुत्व पर हमला कर दिया। दिग्गी कर अनुसार भगवा वस्त्र पहनकर लोग रेप कर रहे है और मंदिरों में बलात्कार हो रहे है। इस बयान द्वारा दिग्गी को क्या हासिल हुआ ये खबर नही लेकिन कांग्रेस के लिए असहज हालात जरूर पैदा हो गए है।

Talented View : हिंदुस्तान के प्राण हिन्दी ?

सवाल है कि दिग्गी के ऐसे बयानों पर कांग्रेस क्यों खामोश रहती है? क्या दिग्गी का बयान कांग्रेस का आधिकारिक बयान है? अगर नही तो उन्हें चुप करा पाने में कांग्रेस नाकाम क्यों है? क्या कांग्रेस नेतृत्व को ये समझ नही आ रहा है कि ऐसे बयानों से पार्टी को नुकसान होता है? या फिर मध्यप्रदेश कांग्रेस को उड़ते तीर लेने की आदत हो गयी है? दिग्गी राजा अगर मंदिर की जगह मस्जिदों में बलात्कार की बात कह देते तो अब तक उन पर जाने कितने फतवे जारी हो जाते। उन्हें जान से मारने तक कि धमकियां मिल जाती। हिंदुत्व सहनशील है तो दिग्गी को मज़ाक सूझ रहा है।

Talented View : ज्ञानी नेता का अज्ञानी बयान

जिस राज्य के मुख्यमंत्री को कड़कनाथ के साथ दूध बेचना है और जिसके बड़े नेता को हिंदुत्व में बलात्कार नज़र आता है उनके लिए क्या कहा जा सकता है? देश में कुछ राज्य तो कांग्रेस के पास बचे है, उनमें भी अगर ऐसी हरकतें की जाएंगी तो इसका यही मतलब है कि सत्ता इन्हें हज़म नही हो रही है। कांग्रेस को कड़कनाथ की चिंता करने की बजाय ‘कमलनाथ’ और उनकी सरकार की चिंता करनी चाहिये। राज्य की सत्ता हड़पने के लिये भाजपा पहले ही आंखे गड़ाई बैठी है। ऐसे में उड़ते तीर लेने की ये आदत कांग्रेस को बहुत भारी पड़ सकती है।

     – सचिन पौराणिक

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.