Talented View : धधकते कैलाश

0

(Cartoon On Kailash Vijayvargiya Threats) कहतें है इंसान का सच्चा स्वरूप तब खुलकर सामने आता है जब वो घर पर होता है या अकेले होता है। दफ्तर में, बाहर की दुनिया में, रिश्तेदारों के सामने वो कभी अपना असली रूप नही दिखाता। लेकिन घर पर इंसान वो होता है जो वो हकीकत में होता है। ऐसा सिर्फ इंसानों के साथ ही नही होता बल्कि नेताओं के साथ भी होता है। देश-दुनिया मे नेता चाहे जैसे रहे लेकिन उसका असली रूप गृहनगर में ही देखने को मिलता है।

Today Cartoon : ट्रंप की मोदीनीति

इसी तरह का असली रूप भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय (Cartoon On Kailash Vijayvargiya Threats) का देखने को मिल रहा है। कल विजयवर्गीय अधिकारियों को धमकाते नज़र आए। कैलाश कह रहे थे कि वो तो हमारे संघ के नेता आज शहर में है वरना मैं इंदौर में आग लगा देता। इस तरह की खुलेआम धमकी कैलाश ने मीडिया के सामने दी। इससे पहले उनके विधायक पुत्र भी निगमकर्मियों पर बल्ला चलाते नज़र आए थे। कैलाश दरअसल संभागायुक्त से मिलने की मांग कर रहे थे लेकिन वो शहर से बाहर होने की वजह से उनसे मिल नही पाए।

Today Cartoon : सावरकर पर संग्राम

इस बात पर कैलाश (Cartoon On Kailash Vijayvargiya Threats) का गुस्सा भड़क उठा। उनके गुस्से के पीछे की एक वजह इंदौर में माफिया पर हो रही कार्यवाही भी है। ऐसा माना जा रहा है कि भाजपा से जुड़े गुंडों की संपत्तियां तोड़े जाने से नेताजी नाराज़ है। ये समझने के लिए कोई रॉकेट विज्ञान जानने की जरूरत तो है नही की हर गुंडा किसी न किसी नेता और राजनीतिक दल से जुड़ा होता है। गुंडों के अवैध कारोबार में नेताओं की हिस्सेदारी होती है और हर काले कारनामे का तय हिस्सा भी उन तक पहुंचता है।

इसलिए जितने भी निर्माण तोड़े जा रहे है उसका कुछ नुकसान नेताओं (Cartoon On Kailash Vijayvargiya Threats) को भी हो रहा है। इसी बात से आजकल प्रदेश के नेता परेशान है। माफ़ियामुक्त प्रदेश बनाने की कमलनाथ की पहल को जनता का भरपूर समर्थन मिल रहा है। प्रदेश के गुंडे हलाकान है और वो अपने राजनीतिक आकाओं से कार्यवाही रुकवाने की दरख्वास्त लगा रहे हैं। लेकिन इस बार आर्डर ऊपर से आए हैं और ‘जुगाड़’ की कोई संभावना भी नज़र नही आ रही है। नेता जब कुछ कर नही पाते तो उसकी ‘खीज’ प्रशासन पर उतारते हैं।

अंदर ही अंदर सब माफिया भी मिले हुए हैं और राजनेता भी। भाजपा (BJP), कांग्रेस (Congress) सिर्फ दिखाने की बातें है, गुंडे और नेता अपने संबंध हर जगह बनाकर चलतें है। माफिया पर हो रही कार्यवाही से भाजपा नेताओं को भी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है और कांग्रेस नेताओं को भी। कोई भी बड़ा अवैध निर्माण बिना नेताओं की सांठ-गांठ के बन ही नही सकता। इसलिये जब ये निर्माण तोड़े जातें है तो नेताओं को तकलीफ होने लगती है।

लेकिन कैलाश विजयवर्गीय (Cartoon On Kailash Vijayvargiya Threats) की इस तरह आग लगाने की खुलेआम धमकी हैरान करने वाली है। एक राष्ट्रीय नेता के तौर पर अपनी छवि बनाने वाले विजयवर्गीय का असली चेहरा इंदौर आने पर ही सामने आ पाता है। गृहनगर में उनकी साख में कोई कमी न आने पाए इसका वे बड़ा ख्याल रखतें है। कैलाश के बयान के बावजूद उन पर कोई कार्यवाही सरकार नही करेगी क्योंकि उनके भी कांग्रेस नेताओं से ‘मधुर’ संबंध है। यही राजनीति की असलियत है।

Today Cartoon : हमारी मर्जी

Prabhat Jain

Share.