website counter widget

Talented View : हुस्न का शिकार

0

“हनी ट्रेप” (Honey Trap) एक ऐसा जाल है, एक ऐसी चाल है जिसमें फंसने वाला पानी भी नही मांगता। ‘हनी’ का मतलब होता है ‘शहद’ और ‘ट्रेप’ यनेकी ‘जाल’। ये वैसा ही है जैसे कोई मक्खी शहद के लालच में आकर उस पर बैठ तो जाती है लेकिन जब शहद का स्वाद लेकर जब वो वापस उड़ना चाहती है तो उड़ नही पाती। क्योंकि तब तक उसके पंखों पर शहद चिपक चुका होता है। इस स्थिति में मक्खी सिर्फ छटपटा सकती है और पछतावा कर सकती है कि वो आखिर क्यों शहद पर बैठी?

Talented View : प्लास्टिक का राम नाम सत्य है

जॉन अब्राहम (

John Abraham) की फ़िल्म ‘मद्रास कैफे’ में ‘हनी ट्रेप’ की झलक दिखाई गई थी। भारतीय खुफिया एजेंसी के एक बड़े अधिकारी को विदेशी ताकतों ने हनी ट्रेप में फंसाकर उससे सारी सूचनाएं निकलवा ली थी। और जब वो अधिकारी किसी काम का नही रहा तो उसका वीडियो सार्वजनिक कर दिया गया। बाद में उस अधिकारी ने खुद को गोली से उड़ा दिया। भारत की राजनीति में कई सुने-अनसुने किस्से नेताओं के इस ट्रेप में फंसने के चर्चा में आते रहते है। लगभग हर देश की एजेंसियां दुश्मन देशों की खुफिया जानकारी निकलवाने के लिए ‘हनी ट्रेप’ का सहारा लेती है।

Talented View : नमो-नमो

हनी ट्रेप (Honey Trap) के लिए पहले सुंदर, आकर्षक लड़कियों को ढूंढा जाता है फिर उन्हें बाकायदा ट्रेनिंग दी जाती है। शिकार को कैसे फंसाना है, खुफिया कैमरे कहाँ लगाने है और उसके बाद जानकारी कैसे निकलवानी है ये सब उन्हें सिखाया जाता है। एक बार टारगेट अगर इस ट्रेप में फंस जाता है तो फिर उसे ब्लैकमेल करना शुरू किया जाता है। टारगेट को झांसे में लेने आए पहले उसके पारिवारिक इतिहास, आदतों और दोस्तों के बारे में सूचनाएं खंगाली जाती है। इस विषय पर कभी विस्तार से चर्चा करेंगे लेकिन फिलहाल ऐसा मामला इंदौर में सामने आया है जहाँ निगम के एक इंजीनियर से लड़कियों ने 3 करोड़ की फिरौती मांग ली है।

इंदौर (Indore) नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह ने पुलिस को शिकायत में बताया कि आरती नाम की महिला उनका अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर 3 करोड़ रुपये मांग रही है। इस फिरौती की पहली किश्त लेने महिला एक लग्जरी कार से इंदौर पहुंची तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में पुलिस गहराई में पहुंची तब कई सनसनीखेज राज़ सामने आये। कई नौकरशाहों, नेताओं को ये महिलाएं ब्लैकमेल करके ठग चुकी है। महिलाओं के पास से कई आपत्तिजनक वीडियो प्राप्त हुए है जिससे शक पुख्ता होता है कि ये संगठित गिरोह के रूप में ‘हनी ट्रेप’ चला रहे थे।

गिरफ्तारी के बाद भी महिलाओं के तेवर कम नही हुए है। इन्होंने कहा हम आम आदमी को परेशान नही करतें है। जो आसामी होता है सिर्फ उसीको हम फंसाते है। हरभजनसिंह करोड़ो का आसामी है ये हमे पता था इसीलिए हमने उसे जाल में फँसाया। इन महिलाओं के हनी ट्रेप में कोई फंसता है तो ठीक और नही फंसा तो उस पर यौन शोषण का आरोप लगाने में भी ये महिलाएं पीछे नही रहती है। और वीडियो वायरल करके उसकी प्रतिष्ठा और इज़्ज़त को तो मिट्टी में मिलाया ही जा सकता है। लेकिन इन महिलाएं की ऐसी करतूतों की वजह से कोई महिला जो सच मे यौन-शोषण का शिकार होती है उसे भी लौग गलत नज़रों से देखने लगतें है।

Talented View :  युवा लायक या नालायक

नेता इन महिलाओं के सबसे आसान शिकार होतें है क्योंकि उनके लिए सार्वजनिक छवि ही सबकुछ होती है। महिलाओं की अस्मिता को कलंकित करने वाली इस गिरोह कि सभी महिलाओं पर सख्त कार्यवाही होनी चाहिए। इनके नाम और तस्वीरें भी सार्वजनिक करना चाहिये। क्योंकि ये महिलाएं अपनी करतूतों की वजह से बाकी महिलाओं के लिए हालात और मुश्किल कर जातीं हैं।

        – सचिन पौराणिक

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.