Talented View : ग़द्दार

0

हिंदुस्तान (India) में गद्दारी का इतिहास काफ़ी पुराना है। (Cartoon On DSP Devender Singh) मुगलों और अंग्रेजो की गुलामी की दास्तान इतनी लंबी इसीलिए खिंच गयी क्योंकि गद्दारों ने अहम मौकों पर देश की जगह उनका साथ दिया था। देश के गद्दार न होते तो झांसी की रानी भी यूं न मरती, चंद्रशेखर आज़ाद को भी खुद को गोली न मारना पड़ती और भगत सिंह को फांसी भी नही होती। एक तरफ देश के लिये अपना सबकुछ बलिदान करने वाले होतें है तो दूसरी तरफ देवेंदर सिंग जैसे गद्दार।

Today Cartoon : भाजपा का बेटी बचाओ ढोंग

एयरपोर्ट (Airport) के एंटी-हाईजैकिंग (Anti-hijacking) सेल के डीएसपी देवेंदर सिंग (Cartoon On DSP Devender Singh) जब जम्मू में आतंकियों के साथ पकड़ाए तो पहले तो विश्वास ही नही हुआ कि डीएसपी रेंक का कोई अधिकारी आतंकियों की इस तरह मदद कर सकता है। लेकिन खबर पक्की थी। इस खबर के साथ कई दिनों से मन मे चल रही शंकाओं को बल मिला कि खालिस्तान समर्थन वाली गैंग देश मे फिर से सिर उठाने लगी है। खालिस्तान की बात इसलिए कर रहे है क्योंकि भारत के पंजाबी, विदेशों में बैठे खालिस्तानियों के निशाने पर है। सिख लोग  देशभक्त होतें है इसलिए आसानी से उन्हें बरगलाया नही जा सकता।

Today Cartoon : अब होगा खाने का हिसाब

(Cartoon On DSP Devender Singh)  लेकिन कनाडा और पाकिस्तान में बैठे खालिस्तान समर्थक नये-नये तरीकों से पंजाबियों को रिझाने में लगे हुए है। खालिस्तान का अलग मुल्क बनाने में सहायता करने के नाम पर पाकिस्तान इन खालिस्तान समर्थकों से अपने आतंकियों की मदद करवाने में लगा रहता है। देवेंदर सिंग प्रकरण में ये एंगल कितना सही बैठता है ये वक्त बतायेगा लेकिन पुलिस और सेना जैसे विभागों में ऐसे गद्दारों का होना हमारे लिए चिंता का विषय है।

 

देवेंदर सिंग (Cartoon On DSP Devender Singh)  अगर आतंकियों की मदद करके उन्हें दिल्ली पहुंचा देता और आतंकी दिल्ली को दहलाने में कामयाब हो जाते तो इसका जिम्मेदार कौन होता? देवेंदर सिंग जैसे गद्दार सिस्टम में ही रहते तो आगे भी वो ऐसे हमले करवाते और अपने ही देश की मिट्टी को लहू से लाल करते। ये तो सुरक्षा एजेंसियों और मुखबिरों के अलर्ट रहने से देवेंदर सिंग पकड़ा गया नही तो इसने देश बेचने में कोई कसर नही छोड़ी थी। कहा जा रहा है कि आतंकियों को दिल्ली पहुंचाने के लिए डीएसपी ने 12 लाख रुपयों में सौदा किया था।

 

ये जानते हुए भी कि भारत के गणतंत्र दिवस पर दिल्ली को खून में रंगने के लिए ही ये कश्मीरी आतंकी (Kashmiri Terrorist) दिल्ली आना चाहतें है,  (Cartoon On DSP Devender Singh)  अपने ज़मीर को बेचकर देश का सौदा करने वाले गद्दार से सख्ती से पेश आना चाहिए। जितनी भी सूचनाएं इसके पास है वो निकलवानी बहुत जरूरी है। हो सकता है इससे पुलिस में छुपे अन्य ‘जयचंद’ भी बेनकाब हो जाये। देवेंदर सिंग जैसे स्लीपर सेल भारत की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है।

 

सिस्टम के अंदर तक पहुंच चुके ये स्लीपर सेल भारत के लिए दुश्मन से भी बड़ा खतरा है। जो काम पाकिस्तान (Cartoon On DSP Devender Singh) में बैठे हाफ़िज़, मसूद जैसे आतंकी नही कर सकते उसको ये लोग आसानी से अंजाम दे सकतें है। ऐसे लोगों को फांसी की सज़ा होना चाहिए जिससे देश के दुशमनो को भी संदेश पहुंचे की हम चौकस भी है और जागृत भी। 21वी सदी में भारत विश्व का नेतृत्व करे उसके लिए देश को अंदरूनी और बाहरी तौर पर सुरक्षित करना सबसे जरूरी है। देवेंदर सिंग (Devender Singh) के घटनाक्रम पर जांच तेज़ी से अंजाम तक पहुंचे और दोषी को शीघ्र सज़ा मिले इसके लिये जल्द कदम उठाए जाने की जरूरत है।

Today Cartoon : मोदी के इशारे पर चल रहा खेल

– सचिन पौराणिक

Share.