Talented View : कांग्रेस के विभीषण

0

गोविंदा, जॉनी लीवर और कादर खान की तिकड़ी ने एक दौर में लगातार एक से बढकर एक कॉमेडी फिल्म्स दी थी। उसी दौर में एक फ़िल्म आयी थी ‘दूल्हे राजा’। कॉमेडी से भरपूर ये फ़िल्म खासी सफल हुई थी। इस फ़िल्म में कादर खान एक बड़ी होटल का मालिक होता है, जॉनी लीवर उनका सेक्रेटरी और गोविंदा उनका दुश्मन। लेकिन जब भी कादर खान जॉनी लीवर से पूछते थे कि तुम किसके साथ हो तो जॉनी उंगली का इशारा गोविंदा की तरफ कर देते थे। जाहिर तौर पर कादर खान इससे चिढ़ते थे क्योंकि कर्मचारी उनका था लेकिन साथ ये दुश्मन का दे रहा था।

 Talented View : डगमगाई देश की आर्थिक स्थिति!

बहरहाल, ये फ़िल्म और ये दृश्य आज इसलिए याद आ गया क्योंकि कांग्रेस नेता दिग्विजयसिंह सिंह एक बार फिर सुर्खियों में आ गए है। इस बार उनका कहना है की आरएसएस और बजरंग दल के लौग पैसे लेकर आईएसआई के लिये जासूसी करतें है। आईएसआई पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी है और उनके इस आरोप से राजनीतिक हलकों में खलबली मच गयी है। भाजपा ने इस पर तुरन्त पलटवार कहते हुए कहा कहा कि-ओसामा को ‘जी’ और हाफिज सईद को ‘साहब’ कहने वाले खुद पाकिस्तान के एजेंट है।

 Talented View : कांग्रेस के नेता – कांग्रेस के दुश्मन

आश्चर्य इस बात पर हुआ कि दिग्गी राजा का ये आरोप पर भाजपा के साथ ही मध्यप्रदेश कांग्रेस को भी रास नही आया। एक विधायक ने इस सिलसिले में सोनिया गांधी को शिकायती पत्र लिखकर कहा है की दिग्गी राज्य की सरकार को अस्थिर करने की साजिश रच रहे है। राज्य में दिग्गी कि दखल की वजह से ऐसा संदेश जा रहा है कि पर्दे के पीछे से वही राज्य में सरकार चला रहे है। उनके ऐसे बयान राज्य में भाजपा को बैठे-बिठाए कांग्रेस को घेरने का मुद्दा पकड़ा देतें है।

अपने बयान पर हंगामा होता देख भी दिग्गी के तेवर तल्ख ही है। उनका साफ कहना है कि वो अपने बयान पर कायम है। उनके अनुसार मध्यप्रदेश पुलिस ने भाजपा आईटी सेल और बजरंग दल के पदाधिकारियों को आईएसआई के लिए जासूसी करते हुए पकड़ा है। इस बयान के नफे-नुकसान का जब प्रदेश कांग्रेस ने अनुमान लगाया तो वो समझ गए कि दिग्गी एक बार फिर भाजपा के लिए ही बेटिंग कर रहे है। ये गैर-जरूरी बयान कांग्रेस को नुकसान और भाजपा को फायदा पहुँचाने वाला है।

दिग्गी पहले भी अपने बयानों से कांग्रेस को कई बार असहज हालातों में डाल चुकें है। इस बार जब प्रदेश में सब-कुछ ठीक चल रहा है तो दिग्गी राजा को शायद ये हज़म नही हो रहा है। इससे पहले प्रदेश के चुनाव के दौरान भी दिग्विजय को प्रचार से दूर रखने के लिए कांग्रेस नेताओं ने केंद्रीय नेतृत्व से चर्चा की थी। ये मांग आलाकमान ने मानी भी और इसीलिये “नर्मदा परिक्रमा” करने के बावजूद दिग्गी राजा को विधानसभा चुनाव में ज्यादा भाव नही दिया गया। इसके बाद लोकसभा चुनाव में भोपाल से साध्वी प्रज्ञा ने भी उन्हें धूल चटा दी।

दिग्गी राजा का बर्ताव बीते कुछ वर्षों से दूल्हे राजा फ़िल्म के जॉनी लीवर की तरह बना हुआ है। वो चुनाव कांग्रेस से लड़तें है, राजनीति कांग्रेस के लिए करतें है लेकिन उनके बयानों का फायदा हमेशा भाजपा को ही मिलता है। फ़िल्म के परिप्रेक्ष्य में सोचें तो कांग्रेस कादर खान, दिग्गी जॉनी लीवर और भाजपा गोविंदा के रोल में है। कादर खान उर्फ कांग्रेस को समझ लेना चाहिए कि जब तक जॉनी जैसे सेक्रेटरी उसके पास है गोविंदा का कुछ नही बिगड़ने वाला।

Talented View : एक नई क्रांति- फिट इंडिया मूवमेंट

– सचिन पौराणिक

Share.