Talented View : हिंदुत्व मतलब हिंदुस्तान

0

ऐतिहासिक नागरिकता संसोधन बिल कल राज्यसभा से पास हो ही गया। सत्ता पक्ष की चतुर रणनीति के आगे विपक्ष के सारे दाव फैल हो गए (Cartoon On CAB 2019)। बिल में संसोधन से लेकर बिल को सिलेक्ट कमिटी में भेजने के विपक्ष के सभी प्रस्ताव खारिज हो गए। राज्यसभा में बहुमत न होने के बाद भी इस बिल को आसानी से पारित करवा लेना भाजपा के लिए खुशी मनाने का मौका है तो विपक्ष के लिए आत्ममंथन का। अगर विपक्ष एकजुट रहता तो ये बिल कभी पास नही हो पाता।

Talented View : हिन्दू पाकिस्तान या मुस्लिम हिंदुस्तान..?

सोनिया गांधी ने बिल को लेकर कहा कि ये संसदीय इतिहास का काला दिन है। कुछ दिन पूर्व ही जैल से लौटे पी चिदम्बरम इस बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की बात कर रहे है। टीएमसी, एआईएमआईएम, एनसीपी, सपा,बसपा जैसी पार्टियां भी इस बिल के पास होने से गुस्सा है। लेकिन इस बिल को लेकर दो दलों ने अपने रुख से सभी को चौंकाया। जदयू ने बिल का समर्थन करके तो शिवसेना ने सदन में वोटिंग का बहिष्कार करके सबको हैरान कर दिया।

Talented View :  संसद में बिल संग्राम

धर्म निरपेक्ष दल का इस विवादित बिल को समर्थन देना और हिन्दुत्ववाड़ी पार्टी का विरोध करना भविष्य की राजनीति के लिए गहरा संकेत है। शिवसेना जहां अब हिन्दू वोटरों से आंखे नही मिला सकेगी वहीं जदयू मुस्लिमों के सामने आने में सकपकाएँगे। हालांकि इस बिल का तथ्यात्मक तौर पर हिन्दू-मुसलमान से कोई लेनादेना नही है लेकिन फिर भी तुष्टिकरण की राजनीति के चलते इस बिल को सांप्रदायिक रंग दिया गया। सदन में गृहमंत्री ने बार-बार ये स्पष्ट किया कि पूर्वोत्तर के निवासियों और भारत के मुस्लिमों को इस बिल से बिल्कुल नही घबराना चाहिये।

धर्म के आधार पर प्रताड़ित होकर भारत आने वाले शरणार्थियों के लिए ये बिल संजीवनी है। हिन्दू, सिख, बौद्ध, ईसाई और पारसियों को अब भारत की नागरिकता मिलने की राह प्रशस्त कर दी गयी है। अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक प्रताड़ना झेल चुके लोगों के लिये ये सरकार का ये कदम राहत और सुकून से भरा है। गृहमंत्री अमित शाह के कल राज्यसभा में दिए उद्बोधन में इस बिल को लेकर व्यक्त की जा रही तमाम शंकाओं का समाधान किया है।

विरोधी इसे भारत को “हिन्दू राष्ट्र” बनाने की दिशा में उठाया गया कदम बता रहे है। लेकिन इस सवाल को आगे बढ़ाया जाए तो प्रश्न ये भी है की भारत अगर हिन्दू राष्ट्र बनता है तो इसमें दिक्कत क्या है?भारत के हिन्दू राष्ट्र होने से अल्पसंख्यकों को कोई समस्या नही आएगी बल्कि वो खुद को और अधिक सुरक्षित महसूस करेंगे। इसके अलावा विपक्ष ये भी नही समझ रहा है कि भाजपा पर हिन्दू राष्ट्र के आरोप लगाकर वो भाजपा के वोटबैंक को ही मजबूत कर रहे है।

Talented View : उन्नाव के जले का घाव

बहरहाल मोदी 2.0 के शुरुवाती 6 महीनों में में धारा 370 के बाद सरकार का ये दूसरा बड़ा कदम है। भाजपा की संसदीय रणनीति के आगे विपक्ष अब हांफने लगा है। सीएबी के पास होने के बाद अब एनआरसी का कार्य रफ्तार पकड़ेगा। 2024 तक भारत से घुसपैठियों को बाहर करने के भगीरथ कार्य को कल संसद में बल मिला है। अवैध रूप से भारत मे रह रहे घुसपैठियों को देश से बाहर निकाला जाए जनता यही चाहती है। लेकिन तुष्टीकरण की राजनीति करने वाले दल घुसपैठियों में भी मजहब ढूंढ लेंगे और हंगामा करेंगे ये भी तय है। लेकिन ये 56 इंची सरकार किसी दबाव में आएगी ऐसा लगता नही है।

– सचिन पौराणिक

 

Share.