Talented View :  अफ़वाहों की ताकत

0

कहतें है तकनीक चाहे कितनी भी विकसित हो जाये, संचार का सबसे तेज़ माध्यम अफवाह ही होता है (TCartoon On CAA Protest)। अफवाहें जितनी तेज़ी से फैलती हैं सच्ची खबरें कभी उस रफ्तार से नहीं फैल पाती। सच्ची खबरें दूध की तरह होती है। दूध में चाहे लाख गुण हो लेकिन दूध लोगों को घर-घर जाकर देना पड़ता है। जबकि अफवाहें शराब की तरह होती है। जंगल के बीच भी दुकान खोल लो तो भीड़ उतनी ही होती है, जितनी की बीच बाज़ार में। शराब के दोष, नुकसान कभी उसकी बिक्री में बाधक नही बनते और वैसा ही अफवाह के साथ है।

Talented View : महागठबंधन की विडंबना…

आजकल ऐसी ही अफवाहें नागरिकता कानून (Cartoon On CAA Protest) पर फैली हुई है। सरकार चीख-चीखकर कह रही है कि किसी देशवासी का इससे कोई लेना-देना नही है लेकिन अल्पसंख्यक भाई मानने को तैयार नही हो रहे। क्योंकि उनके नेताओं ने, मौलानाओं ने, कट्टरपंथियों ने उनके दिमाग को हाइजैक कर लिया है। मोदी-शाह हर घंटे कह रहे है कि नागरिकता कानून से किसी को घबराने की जरूरत नही है लेकिन लौग सुनने-समझने को तैयार ही नही है।

नागरिकता कानून पर फैलाये जा रही इन्ही अफवाहों को दूर करने की एक कोशिश आज हम भी कर लेते हैं। क्या पता लोग समझ ही जाएं। पहली अफवाह ये है कि मोदी भारत से मुसलमानों को बाहर निकालने की साजिश रच रहे हैं। जबकि हक़ीक़त में ऐसा कुछ है ही नहीं। भारत  के किसी नागरिक का इस कानून से कोई लेनादेना ही नही है। ये कानून सिर्फ शरणार्थियों और घुसपैठियों के लिए है। अगर आप दोनों में से कुछ नही हैं, तो घबराने की जरूरत ही क्या है?

Talented View : और जनता भी मोदी-मोदी चिल्लाने में व्यस्त

दूसरी अफवाह जो समझदार लोग भी उड़ाते दिख रहे है वो ये की पाकिस्तान (Pakistan), बांग्लादेश(Bangladesh) और अफगानिस्तान (Afghanistan) से सभी गैर मुस्लिम भारत आ जाएंगे तो भारतीय कहाँ जाएंगे? इतना बड़ा जनसँख्या बोझ भारत कैसे झेलेगा? ये अफवाह बहुत ही शातिराना तरीके से फैलायी गयी है। नागरिकता कानून में स्पष्ट उल्लेखित है कि सिर्फ 31दिसंबर 2014 के पहले से भारत मे रह रहे शरणार्थियों को ही नागरिकता (Cartoon On CAA Protest)  दी जाएगी। और ये लोग पहले से भारत मे ही रह रहे हैं। इसलिए जनसंख्या बोझ बढ़ने की बात कोरी बकवास है। इससे उलट हक़ीक़त ये है कि घुसपैठियों को देश से बाहर निकालने पर देश से जनसँख्या का एक बहुत बड़ा भार कम हो जायेगा।

तीसरा सबसे बड़ा झूठ जो बोला जा रहा है कि इस कानून से देश के मुसलमान दोयम दर्जे के नागरिक  (Cartoon On CAA Protest) बन जाएंगे। इसका जवाब ये है कि मुसलमानों को दोयम दर्जे का नागरिक बनाने की हिम्मत देश की किसी सरकार में नही है। मुसलमान क्या हर समाज, हर इंसान अपने भाग्य का स्वयं निर्माता है। लेकिन दिल्ली जैसे हिंसक प्रदर्शन और बंगाल में रेल पटरी उखाड़ते मुसलमान ये काम बखूबी कर सकतें है। जुम्मे की नमाज़ के बाद हिंसक प्रदर्शन करना और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने से मुसलमानों की छवि जरूर खराब होती है। इन हरकतों के लिए सरकार को जिम्मेदार नही ठहराया जा सकता। ये सुधार खुद को ही लाना होगा।

चौथी अफवाह ये की मोदी भारत को हिन्दू राष्ट्र बना देंगे। इसकी सच्चाई ये है कि फिलहाल सरकार ऐसी किसी योजना पर काम नही कर रही है। लेकिन कुछ ताकतें जरूर इस देश को मुस्लिम देश बनाने पर तुली हुई है। नागरिकता कानून उन कोशिशों पर सिर्फ एक लगाम भर है। घुसपैठियों को नागरिकता  (Talented View On CAA Protest)देकर हम भारत को धर्मशाला नही बनने दे सकते। भारत के मुसलमान इस मुल्क में दुनिया मे सबसे ज्यादा सुरक्षित है ये बात उन्हें समझना चाहिये। नेताओं, मौलानाओं की बातों में आकर हिंसक प्रदर्शन में किसी को शामिल नही होना चाहिये। ये देश हम सबका है, सबका रहेगा। अफवाहों में आये बिना संयम के साथ ये वक्त हमे मिलजुलकर निकालना है। क्योंकि ये देश रहेगा तो हम सब रहेंगे नही तो कोई भी कहीं का नही रहेगा।

Talented View : कांग्रेस ने उम्मीदों से उलट फिर अजय राय को मैदान में उतारा

                 – सचिन पौराणिक

 

 

Share.