फ्री के माल के दुष्प्रभाव

0

एक दोस्त की नई-नई शादी हुई थी। एक दिन उसने अलसुबह सोशल मीडिया पर नीम का रस पीते हुए तस्वीर पोस्ट की। चूंकि मुझे नीम के रस के कुछ साइड इफेक्ट्स पता थे इसलिए मैंने जल्दी से उसे फोन करके पूछा कि कितना रस पिया? वह बोला, 3 गिलास। मैंने पूछा, भाई तीन गिलास कुछ ज्यादा नहीं हो गया? तो वह बोला, मुफ़्त में मिल रहा था इसलिए पी लिया।

बात दरअसल यह है कि अभी हिन्दी नववर्ष आया था, जिसे ‘गुड़ी पड़वा’ भी कहा जाता है। मालवा (मध्यप्रदेश का इंदौर, उज्जैन, रतलाम और मंदसौर का इलाका) में ऐसी परंपरा चली आ रही है कि गुड़ी पड़वा के दिन सवेरे कई समाजसेवी संस्थाएं लोगों को नीम का रस पिलाती हैं। ऐसा माना जाता है कि साल की शुरुआत में नीम का रस पी लिया जाए तो सालभर के लिए बीमारियों से मुक्ति मिल जाती है। चिकित्सा विज्ञान भी कहता है कि नीम का यह कड़वा रस अनेक बीमारियों से बचाता है। यह नीम का रस लोगों को मुख्य सड़कों और चौराहों पर मुफ़्त में पिलाया जाता है और मुफ़्त के माल के जो दुष्प्रभाव होते हैं, वे इसके साथ भी जुड़े ही हुए हैं।

वैसे हम भारतीय मुफ़्त के माल के इतने दीवाने होते हैं कि पूछिये ही मत। हवाई यात्रा के दौरान प्लेन में यदि कुछ भी मुफ़्त (कॉम्प्लीमेंट्री) है तो हम उसको छोड़ेंगे नहीं बल्कि एक बार और मांगकर देखेंगे कि शायद हवाई सुंदरी का दिल पिघल जाए और मुफ़्त का माल थोड़ा और मिल जाए। यही हाल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर परफ्यूम्स की दुकानों का होता है। हम भारतीय वे महंगे परफ्यूम भले न ख़रीदे, लेकिन ‘टेस्टर’ इस्तेमाल करके अपने आप को जरूर महका लेते हैं। हमारी मानसिकता ऐसी हो गई है कि पचास हजार के एसी (एयर कंडीशनर) के साथ यदि दो हजार रूपए का मिक्सर मुफ़्त मिलता है तो हम घर आए मेहमानों को मिक्सर पहले दिखाते हैं एसी बाद में।

हां, तो बात चल रही थी नीम के रस की| दुनिया की हर चीज की तरह ही नीम के रस के भी कुछ साइड इफ़ेक्ट्स जरूर होते हैं। मैंने कहीं पढ़ा था कि नीम के पत्तों का रस ज्यादा मात्रा में सेवन करने से पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर बुरा प्रभाव पड़ता है। नीम के रस के सेवन से शुक्राणु नष्ट हो जाते हैं, जिससे कुछ समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

जब मैंने नए-नए शादीशुदा मित्र को ये बातें बताई तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। वह शिकायती लहजे में बोला कि यह सब पहले क्यों नहीं बताया? अब क्या उपाय हो सकता है इसका? मुझे क्या सपना आयेगा कि श्रीमान तीन  गिलास नीम का रस गटकने वाले हैं। नीम का रस होता ही इतना कड़वा है कि कोई 2 घूंट न पी सके, लेकिन बात सिर्फ ‘मुफ़्त’  की थी, जो 3 गिलास पीने की हिम्मत वह कर सका। मेरी हंसी नहीं रुक रही थी, लेकिन फिर भी मैंने अपने आपको संभालते हुए कहा कि ‘गूगल बाबा’  से ही पूछो कि अब क्या किया जा सकता है।

अभी शादियों का मौसम चल रहा है और कल अचानक रोटरी गार्डन पर मिल रहे नीम के रस पर मेरी नज़र पड़ी, तब ये बातें मुझे याद आ गईं। मैंने सोचा युवाओं से ये बातें साझा कर ली जाए, जिससे अगली बार कहीं नीम का रस मुफ़्त बंटे, तब उसे पीने के पहले उन्हें इसके दुष्परिणाम भी याद रह सकें।

-सचिन पौराणिक

Share.