राहुल गाँधी को केजरीवाल की कक्षा में चुनावी ज्ञान लेने जाना चाहिए

0

दिल्ली चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) के आखिरी दौर में राहुल गांधी (Rahul Gandhi Abused Narendra Modi) की एंट्री हुई है। हालांकि दिल्ली चुनावों (Delhi Election) में कांग्रेस का खाता खुलने की इस बार भी कोई उम्मीद दिखाई नही दे रही है लेकिन राहुल गांधी के कल के बयान सुनकर लगता भी नही की कांग्रेस शून्य से आगे बढ़ना चाहती हैं। पहले ही कांग्रेस की दिल्ली चुनाव में हालत ख़राब है उस पर राहुल के ऐसे बयान ‘करेला ऊपर से नीम चढ़ा’ ही साबित हो रहे है।राहुल ने कल प्रधानमंत्री को लेकर जो भाषा का इस्तेमाल किया उसने भाषाई मर्यादा (Rahul Gandhi Abused Narendra Modi) को रसातल में पहुंचा दिया। चुनावी गर्मी में भड़काऊ भाषण का सिलसिला कोई नई बात नही है लेकिन ‘व्यक्ति विशेष’ को लेकर इस तरह की ‘तू-तड़ाक’ की भाषा सुनने में बहुत हल्की लगती है। प्रधानमंत्री का विरोध होना चाहिए लेकिन भाषाई मर्यादा को इस तरह तार-तार करना लोकतंत्र के लिए सही संदेश नही है।दिल्ली के इसी चुनाव  (Delhi Assembly Elections 2020) में आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) भी चुनाव लड़ रही है। आप नेता अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) भी लगातार चुनाव प्रचार कर रहे है। लेकिन पिछले चुनाव के मुकाबले इस बार केजरीवाल (Arvind Kejriwal)  काफी परिपक्व नज़र आ रहे है। उनकी चुनावी रणनीति का हिस्सा है कि विनम्रता से सभी सवालों का जवाब देना और किसी पर निजी हमले नही करना। केजरीवाल सादगी भरे अंदाज़ में अपनी बात रख रहे है और ये बात जनता को पसंद भी आ रही है।

Pakistan को Arvind Kejriwal का तमाचा

राहुल गाँधी को केजरीवाल की कक्षा में चुनावी ज्ञान लेने जाना चाहिए

राहुल गाँधी को केजरीवाल की कक्षा में चुनावी ज्ञान लेने जाना चाहिए दिल्ली चुनाव के आखिरी दौर में राहुल गांधी की एंट्री हुई है। हालांकि दिल्ली चुनावों में कांग्रेस का खाता खुलने की इस बार भी कोई उम्मीद दिखाई नही दे रही है लेकिन राहुल गांधी के कल के बयान सुनकर लगता भी नही की कांग्रेस शून्य से आगे बढ़ना चाहती हैं। पहले ही कांग्रेस की दिल्ली चुनाव में हालत ख़राब है उस पर राहुल के ऐसे बयान 'करेला ऊपर से नीम चढ़ा' ही साबित हो रहे है।#DelhiAssemblyElections2020 #ArvindKejriwal #Congress #RahulGandhi

Talented India News द्वारा इस दिन पोस्ट की गई गुरुवार, 6 फ़रवरी 2020

केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की राजनीतिक समझ की दाद होना होगी कि उन्होंने इस बार प्रधानमंत्री मोदी (Prime Minister Modi) पर कोई हमला नही किया। क्योंकि वो समझतें है कि मोदी (Rahul Gandhi Abused Narendra Modi) के प्रति जनता के मन मे एक लगाव और सम्मान है। इससे इतर वो देश के प्रधानमंत्री है इसलिए भी उनकी इज़्ज़त की जानी चाहिये। कुछ साल पहले राजनीति में कदम रखने वाले केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ये राज़ की बात समझ चुकें है लेकिन खानदानी राजनीतिज्ञ राहुल गांधी आज भी ‘नादान’ ही बने हुए है।एक कहावत है ‘गुरु गुड़ ही रहे और चेला चीनी हो जाये।’ ये बात इस प्रकरण में दिखाई देती है। केजरीवाल  (Arvind Kejriwal) जैसे नौसिखिए राजनीति में भाजपा को पटखनी देने को तैयार है तो राहुल गांधी और भारी भरकम नेताओ से लदी कांग्रेस पार्टी दिल्ली में अपना खाता खोलने में भी संघर्ष कर रही है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के इस तरह चुनाव प्रचार करने से भी कांग्रेस (Congress) को नुकसान ही होने वाला है। इस तरह की हल्की भाषा के प्रयोग से राहुल गांधी (Rahul Gandhi) अपनी गंभीरता पर स्वयं ही प्रश्नचिन्ह लगा रहे है।

राहुल गांधी (Rahul Gandhi Abused Narendra Modi) को सोचना चाहिए कि उनके अध्यक्ष रहते पार्टी ने लगभग हर चुनाव में बड़ी पराजय दर्ज की है। लेकिन उनके अध्यक्ष पद से हटने के बाद कांग्रेस (Congress) का प्रदर्शन कुछ सुधरा है। अब खबरें आ रही है कि राहुल पुनः पार्टी के अध्यक्ष बन सकतें है। अगर ऐसा होता है तो ये भाजपा (BJP) के लिए जश्न मनाने का मौका होगा। क्योंकि राहुल गांधी (Rahul Gandhi vs Modi) की सक्रिय मौजूदगी का सबसे ज्यादा फायदा भाजपा को ही मिलता है। रही बात भाषाई मर्यादा की तो राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को इस मामले में अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)  से सीख लेना चाहिये..!

BJP का प्रचार करने पर सपना को लोगों ने दिया Shocking जवाब

शाहीन बाग़ का खेल दिल्ली में होना भाजपा को जीत दे गया

Vagisha Pandey

 

Share.