देश की इज़्ज़त मिट्टी में मिला दी फिल्मफेयर अवार्ड ने, रणवीर सिंह ने दिया साथ

0

ट्विटर खोला तो पता चला कि गीतकार मनोज मुन्तशिर नाराज़ है। उनकी नाराज़गी की वजह उनके लिखे गीत को अवार्ड न मिलना है। पहली नज़र में यही लगा कि मुन्तशिर शायद अवार्ड न मिलने की ‘कुंठा’ में नाराज़ हैं। लेकिन थोड़ा गहराई से इस खबर को खंगाला तो समझ आया कि (Gully boy songs) मुन्तशिर गलत नही है। मुन्तशिर (Manoj Muntashir Songs) की नाराजगी वाज़िब है। न सिर्फ उनका गुस्सा जायज़ है बल्कि अवार्ड देने वालों पर भी सवाल खड़े हो जातें है।गुवाहाटी में हुए 65वें फिल्मफेयर अवार्ड में फिल्म गली ब्वॉय के गाने ‘अपना टाइम आएगा'(Gully Boy film) को फिल्मफेयर मिला। लेकिन इस इस अवॉर्ड की दौड़ में मनोज मुंतशिर का लिखा गाना फिल्म ‘केसरी’ (Film Kesari) का ‘तेरी मिट्टी में मिल जावां’ भी शामिल था। यहां तक भी बात आपत्तिजनक नही थी। लेकिन जब इस गाने के शब्दों को चेक किया तो इससे समझ आया कि अवार्ड देने वालो का मानसिक स्तर कितना निम्न है। जिस गाने को अवार्ड दिया गया उसके अन्तरे के बोल है- ‘तू नंगा (Apna Time Aayega Song) ही तो आया है, घंटा लेकर जाएगा..’

सलमान का नया गाना ‘स्वेग से सोलो’ ने मचाया यूट्यूब पर तहलका

अब एक तरफ ये गाना है जो देश के प्रति बलिदान के ज़ज़्बे को जताता है और दूसरी तरफ ये गाना जिसे गाना कहना तक सही नही है। उलजुलूल, सड़कछाप शब्दों को जोड़कर बनायी गयी इस तुकबंदी को युवा पसंद करें, सुने इससे कोई तकलीफ नही। लेकिन इसके सामने ‘तेरी मिट्टी’  (Teri Mitti song Akshay)जैसे ‘क्लास’ गाने की बेइज़्ज़ती करना जनता को बिल्कुल रास नही आ रहा है। फिल्मफेयर की इस हरकत से इस अवार्ड की विश्वसनीयता पर एक बार फिर प्रश्नचिन्ह लग गए है।इससे खफा मनोज मुन्तशिर  (Manoj Muntashir Songs)  ने ट्वीटर पर लिखा कि अब वो आखिरी सांस तक कभी किसी अवार्ड समारोह में हिस्सा नही लेंगे। मनोज मुन्तशिर (Manoj Muntashir Songs 2019) के समर्थन में ट्विटर पर कई पत्रकार, आईएएस और नामी हस्तियां आ गयी है। सभी ने एकसुर में मनोज के गीत को बेहतर (Film Kesari Song)बताया और कहा कि इसे अवार्ड ने देकर फिल्मफेयर ने अपनी ही साख गिराई है।

30 साल बाद राहुल रॉय ने फिल्म ‘आशिकी’ से जुड़े काले धंधे के बारे में बताया

मनोज (Manoj Muntashir)  के अनुसार- मुझे लगता है कि सिनेमा एक पर्दा है इसे कभी बेपर्दा नहीं होना चाहिए। इस तरह के फूहड़ गाने बनने ही नहीं चाहिए। अगर बन भी गया तो फिल्मफेयर जैसा अवार्ड उसे नॉमिनेट करें और नॉमिनेट करके उसे अवार्ड भी दे दें तो इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है। लेकिन जनता को इससे बहुत तकलीफ पहुंची है। हिंदुस्तान जो इतना बड़ा देश है इसमें जो म्यूजिक समझते हैं, उनका दिल टूटा है।’तेरी मिट्टी’ (Teri Mitti song) जैसे गीत को नकारकर एक फूहड़ गीत को अवार्ड देकर वाकई फिल्मफेयर (Filmfare Award) अपना दिमागी दिवालियापन उजागर कर दिया है। फिल्मफेयर (Filmfare Award 2020) ज़्यूरी को शर्म आना चाहिए कि उन्होंने एक उम्दा गीत को नकारा और फूहड़पन को पसन्द किया। तेरी मिट्टी जैसे गीत जनता की ज़ुबान पर है और रहेंगे। इस गीत को पसंद करने वालों के प्यार के आगे फिल्मफेयर पुरस्कार की कोई अहमियत नही है। ऐसे ही चलता रहा तो तेरी मिट्टी  (Teri Mitti song) गाने का तो कुछ नही बिगड़ेगा लेकिन फिल्मफेयर की साख जरूर मिट्टी में मिल जायेगी।

टाइगर श्रॉफ ने ‘बागी 3’ में तूफ़ान ला दिया बस कमी रह गई इस बात की

Sachin Pauranik

Share.