CAA के खिलाफ विरोध करने वालों को समझाना मतलब भैंस के आगे बीन बजाने जैसा है

0

एक निजी चैनल (Cartoon On CAA NRC Against) पर पर देश के कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Law Minister Ravi Shankar Prasad) अल्पसंख्यक वर्ग (minorities)  के कुछ प्रतिनिधियों से चर्चा कर रहे थे। चर्चा का उद्देश्य सीएए को लेकर उनके मन में चल रहे भ्रम को दूर करना था। लेकिन इस कार्यक्रम को देखकर और देश मे चल रहे माहौल को देखकर यही समझ मे आया कि समझाया उसे जा सकता है जो नासमझ हो। (Cartoon On CAA NRC Against)  लेकिन ज्यादा समझदार लोगों को कोई बात नही समझाई जा सकती। जैसे सोए हुए को नींद से जगाया जा सकता है लेकिन सो सोने का ढोंग कर रहा हो उसे कोई नही जगा सकता है। यही हाल सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों का है। ये लौग नासमझ नही है, ये अच्छे से समझ रहे है कि उस कानून से उनका कोई अधिकार नही छीन रहा है। लेकिन वो असल में “बिटवीन द लाइन्स” पढ़ने की कोशिश कर रहे है और उसके मतलब अपनी मर्ज़ी से निकाल रहे है। वो उस बात का विरोध कर रहे हों जो अभी तक कही ही नही गयी।कल सीएए के विरोध वालो का भारत बंद था। (Cartoon On CAA NRC Against)  कल बाज़ार के नज़ारे को  अगर आपने खुली आँखों से देखा  है तो आपको ये महसूस हो गया होगा कि सीएए का विरोध एक वर्ग विशेष तक ही सिमटकर रह गया है। सब्जी मंडी, हम्माली, ट्रांसपोर्ट, पंचर और ऐसे सारे व्यापार जिनसे अल्पसंख्यक बड़ी तादाद में जुड़े हुए है उनके अलावा बंद का कहीं कोई असर देखने को नही मिला। उल्टे सोशल मीडिया पर कल प्रतिष्ठान बंद रखने वालों के बहिष्कार की मुहिम भी शुरू हो गयी है।

Talented View : महागठबंधन की विडंबना…

दूसरी तरफ महिलाओं को आगे करके देशभर में शाहीन बाग (Shaheen Bagh)  तैयार करवाने वालों की एक अजीब दलील देखने को मिल रही है। ये कह रहे है कि सीएए (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन की अगुवाइ मुस्लिम माताएं और बहने कर रही है। (Cartoon On CAA NRC Against)  सुनने में ये सब बड़ा अच्छा लगता है लेकिन ये दलील हास्यास्पद है। जो मुस्लिम बहनें कभी तीन तलाक, बहुविवाह और बुर्के के खिलाफ एक शब्द न बोल पायी वो नागरिकता संसोधन कानून (CAA) पर सड़क जाम करके बैठ जाएंगी ऐसी दलील पर सिर्फ हंसा ही जा सकता है।मुस्लिम महिलाएं और बच्चे सीएए को लेकर देश मे आग लगाने वालों का सिर्फ एक मोहरा है। ये लौग चाहतें ही है कि सरकार इन पर सख्ती करें, ‘वाटर कैनन’ छोड़े, लाठीचार्ज करे, आंसू गैस के गोले फेंके जिससे इन तस्वीरों को दुनिया भर में दिखलाकर खुद को ‘विक्टिम’ की तरह पेश किया जा सके। (Cartoon On CAA NRC Against)  लेकिन सरकार भी ये मंसूबे समझ गयी है। आज ही खबर आयी है कि एक शख्स की मौत हो गयी क्योंकि उसे तत्काल अस्पताल नही ले जाया सका। शाहीन बाग को जाम करने वालो ने एम्बुलेंस तक को रास्ता नही दिया।अगर पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना झेल रहे भाई-बहनों को भारत की नागरिकता दी जा रही है तो भारत के मुस्लिम भाइयों को इसका समर्थन करना चाहिये। लेकिन जिस तरह के उग्र विरोध और बंद देशभर में किये जा रहे है उसे देखकर लगता नही की ये बातें यहां रुक जाएगी। असल मे अल्पसंख्यक वर्ग को समझना चाहिए कि सीएए का अन्धविरोध करके, रास्ता रोककर, सड़कें जाम करके, तोड़फोड़ करके वो सिर्फ समाज़ की दुर्भावना एकत्रित कर रहे है।कुछ मौकापरस्तों की बातों में फंसकर, उनकी कठपुतली बनने से अपने समाज को रोकना अल्पसंख्यकों की खुद की जिम्मेदारी है। देश के कानून मंत्री, ग्रह मंत्री (Home Minister Amit Shah) से लेकर प्रधानमंत्री(PM Narendra Modi)  तक सब अगर सार्वजनिक मंचो से समझा रहे है तो अल्पसंख्यक वर्ग को भी अपनी ज़िद छोड़ देना चाहिये। राजदंड अभी झुका हुआ है इसलिए ये विरोध प्रदर्शन निर्बाध रूप से चल रहे है लेकिन राजदंड अगर उठ गया तो इसके भीषण अंजाम हो सकतें है।

Talented View : और जनता भी मोदी-मोदी चिल्लाने में व्यस्त

CAA के खिलाफ विरोध करने वालों को समझाना मतलब भैंस के आगे बीन बजाने जैसा

CAA के खिलाफ विरोध करने वालों को समझाना मतलब "भैंस के आगे बीन बजाना" एक निजी चैनल पर पर देश के कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद अल्पसंख्यक वर्ग के कुछ प्रतिनिधियों से चर्चा कर रहे थे। चर्चा का उद्देश्य सीएए को लेकर उनके मन में चल रहे भ्रम को दूर करना था। लेकिन इस कार्यक्रम को देखकर और देश मे चल रहे माहौल को देखकर यही समझ मे आया कि समझाया उसे जा सकता है जो नासमझ हो। लेकिन ज्यादा समझदार लोगों को कोई बात नही समझाई जा सकती। जैसे सोए हुए को नींद से जगाया जा सकता है लेकिन सो सोने का ढोंग कर रहा हो उसे कोई नही जगा सकता है। यही हाल सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों का है। ये लौग नासमझ नही है, ये अच्छे से समझ रहे है कि उस कानून से उनका कोई अधिकार नही छीन रहा है। लेकिन वो असल में "बिटवीन द लाइन्स" पढ़ने की कोशिश कर रहे है और उसके मतलब अपनी मर्ज़ी से निकाल रहे है।#CAA_NRCProtests #Jamia #CAA_NRC #ShaheenBagh #MahatmaGandhiji #CAA #NRC #JamiaViolence #jamiaprotests #CAA_NRC_NPR

Talented India News द्वारा इस दिन पोस्ट की गई गुरुवार, 30 जनवरी 2020

Talented View : कांग्रेस ने उम्मीदों से उलट फिर अजय राय को मैदान में उतारा

Sachin Pauranik

Share.