“भारत में पल रहे पाकिस्तान से नही बच पाया ये ‘अभिनंदन'”

0

विंग कमांडर अभिनंदन (Wing Commander Abhinandan Varthaman VrC) जब पाकिस्तान (Pakistan) से सकुशल लौट (Abhinandan And Ratanlal Death) आये तो वो पूरे देश के लिए प्रेरणास्रोत बन गए। उनकी स्टाइल, उनके हावभाव, उनकी मूंछे एक आइकॉन बन गयी। अभिनंदन ( Abhinandan Varthaman) को देखते हुए लाखों युवाओं ने देशभक्ति की प्रेरणा ली और उनकी मूंछो को कॉपी भी किया। ऐसे ही देशप्रेमी युवाओं में एक हवलदार रतनलाल भी थे। इन्होंने भी अभिनंदन (Abhinandan Varthaman back from Pakistan) से प्रेरणा लेते हुए उनकी तरह मूंछे रखी थी,लेकिन देश का ये सबसे बड़ा दुर्भाग्य है कि पाकिस्तान से हमारा अभिनंदन सकुशल लौट आया लेकिन भारत के भीतर पल रहे पाकिस्तान के आगे दूसरा अभिनंदन  (fighter pilot Abhinandan Varthaman) हार गया। हवलदार रतनलाल (Ratanlal in Delhi Police) दिल्ली पुलिस के हवालदार थे जिनकी दंगाइयों द्वारा की गई हिंसा में मौत हो गई। गौरतलब है कि दिल्ली में नागरिकता कानून के नाम पर हिंसक प्रदर्शनों की चपेट में पूरी दिल्ली आ चुकी हैं। शाहीन बाग़ (Shaheen Bagh Movement) से शुरू हुए इस नफ़रत के आंदोलन का ये परिणाम होना ही था।

Talented View : महागठबंधन की विडंबना…

क्योंकि जो लौग भारत की संसद (Abhinandan And Ratanlal Death) का सम्मान नही कर सकते वो संविधान (constitution)  को भला क्यों मानेंगे? दिल्ली में सरेआम गोलियां चलाई जा रही है और हिंसा में 4 की मौत हो गई है। भीड़ को उकसाने वाले अपने घरों में सुरक्षित बैठे हुए हैं और जनता इन सबके बीच अपनी जान बचाकर भागने को मजबूर है। दिल्ली से आ रही तस्वीरे डराने वाली है और पत्थरबाजों के झुंड देखकर समझ नही आ रहा है कि ये दिल्ली है या कश्मीर? कश्मीर (Kashmir)  की तर्ज़ पर ये पत्थरबाज सीधे पुलिस पर हमला कर रहे है। शाहरुख (A Man Named Shahrukh) नाम के एक शख्स का वीडियो कल से वायरल (Video Viral) हो रहा है जिसमें वो सरेआम गोलियां चला रहा था। दिल्ली की सड़कों पर दहशत का ये खेल खेला जा रहा है और बेचारे पुलिस के जवान खुद अपनी जान बचाने के लिए भाग रहे हैं। कई इलाकों में ऐसा हुआ कि हजारों की भीड़ एकसाथ सड़को पर आ गयी और मुट्ठीभर पुलिस के जवान कुछ नही कर पाए। हजारों की भीड़ के आगे कुछ जवान कर भी क्या सकतें है? इसलिए पुलिस खुद अपनी जान बचाकर भाग रही है।

Talented View : और जनता भी मोदी-मोदी चिल्लाने में व्यस्त

दिल्ली (Abhinandan And Ratanlal Death) के हालात देखकर अब लगता है कि ग्रह मंत्रालय को ट्रम्प (Donald Trump) के जाने का इंतज़ार नही करना चाहिए। दंगाइयों पर तुरंत और सख्त से सख्त कार्यवाही अविलंब शुरू हो जाना चाहिये। देश की राजधानी को अराजक तत्व बंधक बना लें ये देश के लिये शर्म की बात है। नागरिकता कानून के विरोध (CAA Protest) के नाम पर सड़क जाम करने वालों पर रासुका लगाकर इनकी संपत्तियां जब्त की जानी चाहिये। इन्होंने देश की कानून व्यवस्था का मज़ाक बनाकर रख दिया है।अगर दिल्ली पुलिस से हालात नही सम्हल रहे है तो पीएसी, सीआरपीएफ (CRPF) या फिर सेना बुलाकर इन दंगाइयों को सबक सिखाना चाहिए। विरोध प्रदर्शन और सार्वजनिक मर्यादा की लक्षमण रेखा ये दंगाई पार कर चुकें है और अब इनके लिए कोई सहानुभूति नही होना चाहिए। ये लौग जो भाषा समझे उसी भाषा मे इन्हें अब समझा देना चाहिये। देश के सुरक्षा बल ऐसा करने में पूर्णतः सक्षम है। गृहमंत्रालय को अब समझाइश और हिदायत छोड़कर राजदंड उठा ही लेना चाहिये। क्योंकि आज राजदंड नही उठा तो कल दंगो की लपट पूरे देश मे पहुंच सकती है।

Talented View : कांग्रेस ने उम्मीदों से उलट फिर अजय राय को मैदान में उतारा

Sachin Pauranik

Share.