website counter widget

क्यों चयनकर्ताओं ने शाहबाज नदीम को मौका नहीं दिया?

0

आपने साउथ की फिल्म जर्सी देखी होगी, यह फिल्म एक ऐसे किरदार पर आधारित थी, जो अपने परिवार की वजह से क्रिकेट खेलना छोड़ देता है, लेकिन एक बार फिर वह 40 साल की उम्र में भारत के लिए क्रिकेट खेलने की उम्मीद के साथ बल्ला थामता है| वास्तविक जीवन में भी, कई खिलाड़ी हैं जो इस उम्मीद में क्रिकेट खेलते रहते हैं कि उन्हें अपने देश के लिए क्रिकेट खेलने का मौका मिलेगा|

श्रीलंका के रंगना हरथा, पाकिस्तान के मिस्बाह उल हक जैसे कई खिलाड़ी हैं, जिन्हें 30 साल की उम्र के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का मौका मिला| अब इस सूची में शहबाज़ नदीम का नाम भी शामिल हो गया है| लंबे इंतजार के बाद शाहबाज नदीम को भारतीय टीम में डेब्यू करने का मौका मिला| 30 साल की उम्र में, शाहबाज ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपनी शुरुआत की| अपने डेब्यू मैच में उन्होंने कुल 4 विकेट लिए|

शहबाज ने बिहार, झारखंड, सनराइजर्स हैदराबाद जैसी टीमों के लिए काफी क्रिकेट खेला है, इसके बाद भी इस खिलाड़ी को टीम इंडिया का हिस्सा नहीं बनाया गया| उन्होंने रणजी के 2015 सीजन में 51 और 2016 के सीजन में 56 विकेट लिए थे| इन दोनों सत्रों में यह खिलाड़ी सबसे अधिक विकेट लेने वाला गेंदबाज था|

साल 2018 में खेली गई दिलीप ट्रॉफी में यह खिलाड़ी उस समय अखबारों की सुर्खियां बन गया जब उन्होंने अपने 10 ओवर के स्पेल में 10 रन देकर 8 विकेट लिए|

आईपीएल में शाहबाज़ ने दिल्ली कैपिटल्स और सनराइज़र्स हैदराबाद के लिए गेंदबाजी की| 64 आईपीएल मैचों में, इस खिलाड़ी ने 64 मैचों में 42 विकेट लिए हैं, जो एक बुरा आंकड़ा नहीं है| आखिर चयनकर्ताओं ने इस खिलाड़ी को इतने दिनों तक मौका नहीं दिया| यह सवाल हर फैंस के मन में हैं| खैर यह तो चयनकर्ताओं को ही पता होगा की आखिर उन्होंने इस खिलाड़ी को इतने लम्बे समय बाद क्यों टीम का हिस्सा बनाया|

-Hriday Kumar

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.