पहली बार टॉस के लिए आए ऑस्ट्रेलिया के दो कप्तान!

0

क्रिकेट के मैदान में आपने कई बार अजब-गज़ब चीजें देखी होंगी, लेकिन भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया ‘बॉक्सिंग डे’ टेस्ट में जो नज़ारा देखने को मिला, वह शायद आपने पहले कभी नहीं देखा होगा| बॉक्सिंग डे टेस्ट के पहले दिन सभी दर्शक उस समय हैरान हो गए, जब ऑस्ट्रेलिया की ओर से टॉस के लिए एक नहीं बल्कि दो कप्तान आए| जी हां..! ऑस्ट्रेलिया के कप्तान टिम पेन के साथ टॉस के लिए एक 7 साल का बच्चा भी आया, जो ‘बॉक्सिंग डे’ टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई टीम का सह कप्तान है|   

मेलबर्न में खेले जा रहे ‘बॉक्सिंग डे’ टेस्ट मैच के लिए 7 वर्षीय आर्ची शिलर को ऑस्ट्रेलिया के सह कप्तान की भूमिका दी गई है| यह सुनने में ये थोड़ा अजीब है, लेकिन यह सच है| इस मैच से पहले शिलर ने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के साथ जमकर अभ्यास भी किया था| उन्होंने टीम के साथ नेट्स में बल्लेबाजी और गेंदबाजी की|

आर्ची शिलर एक लेग स्पिनर है| मैच से पहले ऑस्ट्रलिया के गेंदबाज नाथन लॉयन ने उन्हें टीम की जर्सी भी सौंपी| यह जानकारी पढ़ने के बाद आप सभी सोच रहे होंगे कि आखिर क्यों इस बच्चे को ऑस्ट्रेलिया का सह कप्तान बनाया गया| दरअसल, यह बच्चा एक असाध्य दिल की बीमारी का शिकार है|

तीन साल की उम्र में जब पहली बार उसकी बीमारी का पता चला, तब से वह कई सर्जरी से भी गुजर चुका है| ‘मेक-ए-विश ऑस्ट्रेलिया फाउंडेशन’ की गुजारिश के बाद आर्ची शिलर को ऑस्ट्रेलियाई टीम में शामिल किया गया| सात साल के आर्ची क्रिकेट फैन हैं और क्रिकेट खिलाड़ी बनने का सपना देखते हैं|

इस बारे में ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट कप्तान टिम पेन ने कहा था कि आर्ची को कप्तान बनाने का फैसला उसके सपने को पूरा करना है| उन्होंने मैच से पहले कहा था, “निश्चित तौर पर आर्ची और उनके परिवार को मुश्किल दौर से गुजरना पड़ा है| जब उसके पिता ने उससे पूछा कि तुम क्या बनना चाहते हो तो उसने कहा कि मैं ऑस्ट्रेलिया का कप्तान बनना चाहता हूं| हमें खुशी है कि वह हमारे साथ है|”

Live ‘Boxing Day’ Test : भारत को लगा दूसरा झटका

बल्लेबाजों पर भड़के कोहली !

मेलबर्न टेस्ट : बन सकते हैं ये बड़े रिकॉर्ड

Share.