वेटलिफ्टर संजीता चानू से छिन सकता है स्वर्ण

0

कॉमनवेल्थ गेम्स की दो बार की चैंपियन भारतीय वेटलिफ्टर संजीता चानू डोप परीक्षण में फेल हो गई हैं। इसकी जानकारी वेटलिफ्टिंग फेडरेशन ने दी है। फेडरेशन की ओर से बताया गया है कि कॉमनवेल्थ गेम्स-2018 में महिला वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए 53 किग्रा वेट कैटेगरी में गोल्ड जीतने वाली चानू डोप टेस्ट में पॉजिटिव पाई गई हैं।

खून में स्टेरॉइड

संजीता चानू के खून में स्टेरॉइड पाया गया है। यह एक ऐसा ड्रग है, जिससे शरीर में बहुत ज्यादा ताकत आती है। फेडरेशन ने उन्हें एंटी-डोपिंग नियम उल्लंघन के तहत तत्काव प्रभाव से अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है। उनका मेडल भी छिन सकता है।

अर्जुन अवॉर्ड नहीं मिलने पर गई थी कोर्ट

गौरतलब है कि वर्ष 2017 में संजीता उस वक्त सुर्खियों में आई थीं, जब अर्जुन पुरस्कार पाने वालों की सूची में उनका नाम नहीं था। संजीता ने इसके बाद कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

कॉमनवेल्थ में जीता गोल्ड

चानू ने गोल्डकोस्ट में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता था। उन्होंने स्नैच राउंड में पहले प्रयास में 81 किलोग्राम का वजन उठाया, दूसरे प्रयास में 83 किलोग्राम, जबकि तीसरे प्रयास में 84 किलोग्राम का वजन उठाकर कॉमनवेल्थ गेम्स का नया रिकॉर्ड बना दिया था।

Share.