हार के बाद खिलाड़ी की हत्या

0

फीफा विश्वकप 2018 की शुरुआत 14 जून से होने जा रही है| दुनियाभर की 32 टीमें इस आयोजन में हिस्सा ले रही हैं| फिलहाल टीमों के बीच वार्मअप मुकाबले खेले जा रहे हैं| इस बार फीफा वर्ल्डकप का आयोजन रूस में हो रहा है और हर बार की तरह इस बार भी फैंस के बीच इसे लेकर जोश बढ़ने लगा है| क्रिकेट की तरह फुटबॉल को भी खेलप्रेमी काफी पसंद करते हैं| जब टीम ख़राब प्रदर्शन करती है तो फैन्स का गुस्सा मैदान और सड़कों पर दिखाई देता है| कभी-कभी तो फैन्स अपनी टीम की हार के बाद इतना गुस्सा हो जाते हैं कि वे पत्थरबाजी और पुतले जलाने जैसी घटनाओं को अंजाम दे देते हैं|

इस महाआयोजन से पहले हम आपको फुटबॉल की एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे| आज हम आपको जिस घटना के बारे में बताने जा रहे हैं, वह 24 वर्ष पूर्व 1994 के फीफा विश्वकप के दौरान हुई थी|

कोलंबिया और अमरीका के बीच 22 जून को महत्वपूर्ण मुकाबला खेला गया| इस मुकाबले में कोलंबिया को 1-2 से हार का सामना करना पड़ा| इस अहम मुकाबले के बाद कोलंबिया की टीम वर्ल्डकप से बाहर हो गई|  कोलंबिया की ओर से डिफेंडर आंद्रे एस्कोबार ने एकमात्र गोल किया था|

इस हार के बाद आंद्रे अपने देश लौट गए| वर्ल्डकप से बाहर होने के ठीक 5 दिन बाद आंद्रे कोलंबिया के एक बार से देर रात पार्टी कर लौट रहे थे| तभी अचानक नाइट क्लब की पार्किंग में तीन लोगों ने उन पर गोलियां दाग दी| रिपोर्ट के अनुसार, आंद्रे को 6 गोलियां लगी थीं| हत्यारे जब उन पर गोलियां चला रहे थे, उस समय वे ‘गोल-गोल’ चिल्ला रहे थे| घटना के बाद आंद्रे को तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई|

एस्कोबार की अंतिम यात्रा में करीब 120,000 लोग शामिल हुए थे| वर्ष 2002 में उनकी याद में कोलंबिया के मेडेलिन शहर में उनकी एक प्रतिमा भी स्थापित की गई|

Share.