जन्मदिन विशेष: कपिल देव ने एक लड़की को चलती ट्रेन में ही किया था प्रपोज

0

कपिल देव (Happy Birthday Kapil Dev) क्रिकेट की दुनिया का एक ऐसा नाम हैं, जिनको क्रिकेट में उच्च एवं सम्मानीय दर्जा प्राप्त है. इस महान खिलाड़ी ने भारत में पहली बार क्रिकेट वर्ल्ड कप (World Cup) लाने का काम किया था, जिसको उस समय किसी ने भी सपने में भी नहीं सोचा था. कपिल देव आज अपना 61वां जन्मदिन मना रहे हैं. हरियाणा तूफान के नाम से जाने वाले इस क्रिकेटर को क्रिकेट पिच पर कभी भी रन आउट होते हुए नहीं देखा गया था. इस खिलाड़ी ने अपनी फिटनेस पर इतना ध्यान दिया हुआ था कि सेहत की वजह से इन्हें कभी भी टेस्ट मैच से बाहर नहीं किया गया क्रिकेट के इतिहास में महान आलराउंडर खिलाडियों (All Rounder Kapil Dev Birthday) की जब भी बात आती है तो कपिल देव का नाम बहोत अदब से लिया जाता है। उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान बन कर टीम को अनेक बार विजय दिलाई। कपिल देव के नेतृत्व में 1983 में पहली बार वर्ल्ड कप जीतकर टीम ने इतिहास रच डाला । उसके तीन वर्ष बाद उनकी कप्तानी में इग्लैड में भारत ने सीरीज जीती । वह मध्यम गति के बेहतरीन तेज़ गेंदबाज़ थे, मध्यम क्रम के तेज हिट करने वाले बल्लेबाज, शानदार फील्डर तथा श्रेष्ठ कप्तान रहे कुलमिलाकर कहा जाए तो एक बेहतरीन आलराउंडर रहे है। कपिल देव का पूरा नाम कपिल देव रामलाल निखंज है । वह दाहिने हाथ के बल्लेबाज व दाहिने हाथ के तेज मध्यम गति के गेंदबाज रहे ।

Kapil Dev Biopic Film : कपिल देव की बायोपिक में हुई बड़े यूट्यूबर की एंट्री

तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार मिले-

कपिल देव (Happy Birthday Kapil Dev) एकमात्र भारतीय क्रिकेटर (Indian Cricketer) हैं जिन्हें तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार (won three national awards) मिले है। कपिल देव को साल 1979-80 में अर्जुन अवॉर्ड (1979-80 Arjuna award), 1982 में पद्मश्री (1982 Padam shri award), 1983 में विसडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर (1983 Wisden Cricketer of the Year), 1991 में पद्म भूषण, 2002 में विसडन इंडियन क्रिकेटर ऑफ द सेंचुरी, इसके अलावा कपिल के योगदान को देखते हुए उन्हें 24 सितंबर 2008 को भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल का दर्जा दिया गया। 70 के दशक में अन्तिम वर्षों तक भारतीय टीम में कोई अच्छा ‘ओपनिंग बॉलर’ नहीं था । तब कपिल का क्रिकेट में आगमन हुआ। उसके बाद फिर कपिल देव (Happy Birthday Kapil Dev) ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और भारतीय टीम को बुलंदियों तक पंहुचा दिया। कपिल देव ने क्रिकेट में अपना पहला मैच 1975 में हरियाणा की तरफ से खेला था जिसमें उन्होंने पंजाब के खिलाफ खेलते हुए 6 विकेट लिए थे और पंजाब को 63 रन पर सिमटा दिया | इस तरह हरियाणा की जीत हुयी थी | कपिल देव ने इस सीजन में 30 मैच खेलते हुए 121 विकेट लिए थे | 1976–77 सीजन में उन्होंने जम्मू कश्मीर के खिलाफ खेलते हुए 8 विकेट लेकर अपनी टीम को जीत दिलाई थी | इसके बाद उन्होंने अपने फर्स्ट क्लास करियर में कई रिकॉर्ड कायम किये थे इसके बाद उन्होंने रणजी में भी कई मैचो में बेहतरीन प्रदर्शन किया था |

कपिल देव लुक में छा गए रणवीर सिंह

अपने (Happy Birthday Kapil Dev) बेहतरीन प्रदर्शन को जारी रखते हुए उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा और 1978 में उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच पाकिस्तान के खिलाफ खेला था | 1978 से लेकर 1994 तक उन्होंने भारतीय टीम को उचाइयो तक पहुचाया और कई रिकॉर्ड भी कायम किये | कपिल देव ने 131 टेस्ट मैचो में 5248 रन और 434 विकेट लिए थे | अपने टेस्ट करियर में उन्होंने 163 रन की सर्वाधिक पारी खेली थी | इसके अलावा उन्होंने (Happy Birthday Kapil Dev) अपने टेस्ट करियर में 8 शतक और 27 अर्द्धशतक बनाये थे | कपिल देव विश्व क्रिकेट में सबसे कम समय में 100 विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने थे और सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी थे | कपिल देव ने भारतीय क्रिकेट को नई दिशा प्रदान की और स्वयं भी प्रशंसा और प्रसिद्धि पाई । 1983 में कपिल देव के नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम ने विश्व कप जीता । यह उनकी अभूतपूर्व उपलब्धी थी और भारत के लिए गौरव की बात थी.

बनाया विश्व विजेता-

बल्लेबाज के रूप में उन्होंने (Happy Birthday Kapil Dev) क्रिकेट की महान ऊंचाइयों को छू लिया । ‘टनब्रिजवेल्स, इंग्लैंड में जिंबाब्वे के विरुद्ध (Tonbridgewells, against Zimbabwe in England) 175 अविजित रन बना कर उन्होंने भरपूर प्रशंसा बटोरी । 1983 के विश्व कप में कपिल देव ने 17 रन पर 5 विकेट के स्कोर पर खेलना आरम्भ किया और 60 ओवर में 266 रन पर टीम को पहुंचा दिया । उन्होंने अविजित 175 रन बना डाले । 1990 में इंग्लैंड के विरुद्ध टैस्ट खेलते हुए फालोआन बचाने के लिए एडी हेमिंग्ज की गेंद पर उन्होंने 4 बार 6 छक्के लगाकर सबको चौंका दिया । उनका 434 विकेट लेने का रिकार्ड है । कपिल ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्होंने 5248 रन के साथ ही टैस्ट मैचों में 400 विकेट लिए हैं । किसी भारतीय द्वारा सबसे ज्यादा टैस्ट मैच खेलने का रिकार्ड भी कपिल देव के ही नाम है । उन्हें (Kapil Dev Birthday) पिछले दिनों भारतीय क्रिकेट टीम का कोच भी बनाया गया था | वर्ग 2002 में विज्डन (लंदन) द्वारा कपिल देव को ‘इंडियन प्लेयर ऑफ द सेंचुरी’ चुना गया । 35 सदस्यों की निर्णायक टीम ने सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़कर कपिल देव को चुना । उनका कहना था कि कपिल एक ऐसा खिलाड़ी था जो अकेले ही खेल के परिणामों की दिशा मोड़ सकता था ।

सच्ची खेलभावना के धनी कपिल देव-

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team)को सन 1983 में एक दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट श्रुंखला में विश्वविजेता बनाने का श्रेय कपिलदेव (Happy Birthday Kapil Dev) को है. विश्वकप में उनके व्दारा बनाने गये 175 रनों की ऐतिहासिक पारी क्रिकेट जगत में स्वर्णित अक्षरों में अंकित हो गयी है. 1987 के वर्ल्ड कप में सच्ची खेलभावना के लिए कपिल देव को हमेशा याद रखा जाता है। 1987 के वर्ल्ड कप में पहला मैच ऑस्ट्रेलिया और इंडिया के बीच में हुआ था। जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 268 रन बनाए थे, लेकिन ऑस्ट्रेलिया की बैटिंग खत्म होने के बाद कपिल देव ने अंपायरों के साथ बातचीत की जिसके बाद ऑस्ट्रेलिया को दो रन और दिए गए।

कपिल देव (Happy Birthday Kapil Dev) ने अंपायरों को बताया कि मैच के दौरान एक सिक्स लगा था जिसे उन्होंने फोर दिया था। इस सबके चलते अब इंडिया को जीतने के लिए 269 की जगह 271 रन का टारगेट मिला। किस्मत को खेल भी कुछ ऐसा हुआ कि इंडिया की टीम केवल 269 रन ही बना पाई और 1 रन से मैच हार गई। कपिल देव (Happy Birthday Kapil Dev) की इस सच्ची खेलभावना के चलते मैच का नतीजा बिल्कुल बदल गया था। विज्डन क्रिकेटर एल्मनैक में भी इस बारे में बताया गया है। अपने इस फैसले के चलते कपिल देव को कप्तानी से हटा दिया गया और वह कभी दोबारा टीम के कप्तान नहीं बने। कप्तान के तौर पर उनका बुरा समय भी रहा जब गावसकर के साथ झगड़े की बात सामनें आई और बॉलर के तौर पर उनका प्रर्दशन खराब हुआ।

ट्रेन में ही किया था प्रपोज-

कपिल देव (Happy Birthday Kapil Dev) ने रोमी भाटिया से 1980 में शादी की थी। दोनों उस वक्त 21 साल के ही थे। यह एक लव मैरिज थी। दोनों की पहली मुलाकात एक साल पहले 1979 में एक कॉमन फ्रेंड के जरिए हुई थी। शादी के 16 साल बाद कपिल देव आमिया के पिता बने। कपिल देव और रोमी के बीच एक खूबसूरत वाक्या है। बताया जाता है कि जब कपिल (Happy Birthday Kapil Dev) ट्रेन में सफर कर रहे थे, तब ट्रेन में एक खूबसूरत लड़की गुजरी। तब कपिल ने एक लड़की से कहा, ‘क्या तुम इस जगह की तस्वीर लेना चाहोगी, जो हम अपने बच्चों को दिखा सकें। उस लड़की का नाम रोमी था। रोमी को यह बात समझने में थोड़ी देर लगी कि कपिल उनके सामने शादी का प्रस्ताव रख रहे हैं, लेकिन उन्होंने हां कर दी। कपिल ने ट्रेन में यात्रा के दौरान रोमी के सामने अपना प्रस्ताव अपने ही स्टाईल में रखा।

क्रिकेटर की बायोपिक में शाहरुख खान की एंट्री!

-Mradul tripathi

Share.