मेसी पर टिकी सबकी नज़र

0

फीफा वर्ल्ड कप का बुखार आज सबके ऊपर चढ़ गया हैं। वर्ल्ड कप में आज ‘ग्रुप-डी’ में 6.30 बजे अर्जेंटीना और आइसलैंड के बीच मैच खेला जाएगा। इस वर्ल्ड कप में यह अर्जेंटीना का पहला मैच होगा। आइसलैंड पहली बार फीफा कप के लिए खेलने वाली है। आइसलैंड के कोच हेमिर हॉलग्रिम्सन हैं जो पेशे से डेनटिस्ट हैं। उनके आने के बाद से टीम में लगतार सुधार किया हैं।  इस टीम के पास भले ही मेसी जैसा स्टार खिलाड़ी न हो लेकिन कोच ने इसे एकजुट रहकर मैदान पर खेलना सिखाया है, और यही इस टीम की सबसे बड़ी ताकत है। पिछली बार की उपविजेता अर्जेंटीना यहां तीसरी बार विश्व चैंपियन बनने के लक्ष्य के साथ रूस पहुंची है। सभी की निगाहें मैसी पर टिकी हैं।

इसके अलावा ‘ग्रुप-सी’ में तीसरा मैच रात को 9:30 बजे होगा। यह मैच पेरू और डेनमार्क के बीच होगा फीफा विश्व कप में 36 साल बाद वापसी कर रहा पेरू शनिवार को ग्रुप सी के अपने पहले मुकाबले में यूरोपीय देश डेनमार्क से भिड़ेंगे।  दोनों देशों के बीच फुटबॉल का यह पहला मुकाबला होगा।  पेरू ने आखिरी बार 1982 में हुए विश्व कप में हिस्सा लिया था। कोनमेबोल रीजन में किसी तरह जद्दोजहद करते हुए पांचवां स्थान हासिल करने के बाद पेरू ने विश्व कप क्वालिफायर के प्लेऑफ में न्यूजीलैंड को हराकर मुख्य टूर्नामेंट में जगह बनाई।

आज ही के दिन क्रोएशिया और नाइजीरिया के बिच रात 11:30 बजे खेला जायेगा।मिडफील्ड में मौजूद स्टार खिलाड़ियों के दम पर क्रोएशिया की टीम नाईजीरिया के खिलाफ अपने पहले मुकाबले में जीत दर्ज करना चाहेगा। साल 1998 में अपने पहले ही फीफा विश्व कप में सेमीफाइनल तक पहुंचकर तीसरे स्थान पर रहने वाली क्रोएशियाई टीम इस बार भी बड़ा उलटफेर करने का माद्दा रखती है। दूसरी ओर, पिछले सात में से छह बार विश्व कप में हिस्सा ले चुकी नाईजीरिया में भले ही बड़े नाम न हों, लेकिन वो क्रोएिशया के लिए खतरा साबित हो सकती है।

Share.