इस घटना के बाद टूट गए थे कप्तान

0

नाइजीरिया की टीम दो मुकाबलों में हारने के बाद इस फीफा विश्वकप से बाहर हो गई थी| टीम ने अपना अंतिम मुकाबला अर्जेंटीना के खिलाफ खेला था, जिसमें उसे 1-2 से हार का सामना करना पड़ा था| इस मुकाबले से ठीक पहले नाइजीरिया के कप्तान मानसिक रूप से टूट चुके थे| इस मुकाबले से ठीक पहले कप्तान जॉन ओबी मिकेल को खबर मिली कि उनके पिता का अपहरण हो गया है| इस बारे में किसी को बताने पर उन्हें जान से मार दिया जाएगा|

कप्तान को इस बात की खबर उस समय लगी, जब वे अर्जेंटीना के खिलाफ मैच खेलने के लिए सेंट पीट्सबर्ग की बस में बैठने जा रहे थे| उनके घर के एक सदस्य ने फोन करके उन्हें बताया कि उन्हें एक नंबर पर कॉल करके अपहरणकर्ताओं से बात करनी होगी और जब उन्होंने बात की तो उनसे फिरौती मांगी गई और धमकी दी गई कि उनके पिता को गोली मार दी जाएगी|

कप्तान ने कहा “मैं इसके बारे में नाइजीरियन फुटबॉल संघ से जुड़े किसी व्यक्ति को जानकारी नहीं दे सका क्योंकि वह मैच से ठीक पहले खिलाड़ियों का ध्यान नहीं बंटाना चाहते थे| इसके बाद मैंने खुद से पूछा कि क्या मेरे अंदर यह मैच खेलने की ताकत है?”

मिकेल ने कहा, “मैं मानसिक रूप से टूट चुका था और मुझे यह निर्णय लेना था कि क्या मैं खेलने के लिए मानसिक रूप से तैयार था| मैं कन्फ्यूज़ था| मैं नहीं जानता था कि क्या करना है, लेकिन अंत में मैं जानता था कि मैं 18 करोड़ नाइजीरियाई लोगों को नीचा नहीं दिखा सकता हूं | मुझे इसे अपने दिमाग से निकालना है और अपने देश के लिए खेलना है| यहां तक कि मैंने अपने कोच को भी इस बारे में नहीं बताया और सिर्फ मेरे करीबी दोस्तों को इस बारे में पता था|”

नाइजीरिया की पुलिस ने मिकेल के पिता को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छुड़ा लिया, लेकिन उन्होंने ने एक हफ्ते प्रताड़ित किया और अब अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है|

Share.