जीवन मंत्र : ये है सफलता की कुंजी

0

मन की गतिविधियों, होश, श्वास और भावनाओं के माध्यम से भगवान की शक्ति सदा तुम्हारे साथ है और लगातार तुम्हें बस एक साधन की तरह प्रयोग कर के सभी कार्य कर रही है।

पेड़ कभी डाली काटने से नहीं सूखता, पेड़ हमेशा जड़ काटने से सूखता है, वैसे ही इंसान अपने कर्म से नहीं, बल्कि अपने छोटी सोच और गलत व्यवहार से हारता है।

सफलता का कोई पैमाना नहीं होता – एक गरीब बाप का बेटा बड़ा होकर ऑफिसर बने पिता के लिए यही सफलता है। जिस इंसान के पास कुछ खाने को ना हो वो सुख पूर्वक 2 वक्त की रोटियां जुटा ले ये भी सफलता है।

जिंदगी में तुम्हारे पास मौका होता है या तो कड़वे बन जाओ या अच्छे। कडवे बनने से अच्छा है अच्छे बन जाओ।

लक्ष्य प्राप्त करना मायने रखता है और जो बहादुरी भरे काम और साहसिक सपने आप पूरे करना चाहते हैं उनके बारे में लिखना उन्हें पूरा करने के लिए चिंगारी का काम करेगा।

सही दिशा में कदम बढ़ते चलो इससे फर्क नहीं पड़ता की तुम्हारे कदम कितने छोटे हैं पर अपने गोल की तरफ बढ़ते चलो।

कभी मत सोचिए कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव नहीं, ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है, अगर कोई पाप है तो वो यही है ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं।

किसी कारण वश खुश होना एक दूसरे तरह का दुःख है क्योंकि कारण कभी भी हमसे छीना जा सकता है।

महान कार्य तभी हो सकता है जब आप अपने काम को प्यार करो।

यदि आप दूसरों की मदद कर सकते हैं तो अवश्य करें, यदि नहीं तो कम-से-कम उन्हें नुकसन नहीं पहुंचाएं।

तुम्हारा सबसे बड़ा दुश्मन तुम्हें उतना नुकसान नहीं पहुंचा सकता जितना तुम्हारे खराब विचार।

अगर आज का दिन आपकी जिंदगी का आखिरी दिन होगा तो क्या आप वही करोगे जो आप आज करने वाले हैं।

बहुत सारे लोग आपके साथ शानदार गाड़ियों में घूमना चाहते हैं, पर आप चाहते हैं कि कोई ऐसा हो जो गाड़ी खराब हो जाने पर आपके साथ बस में जाने को तैयार रहे।

यह मायने नहीं रखता कि आप दुनिया में कैसे आए, ये मायने रखता है कि आप यहाँ हैं।

यदि कोई अपना पूरा समय भगवान मे लगाता है और उसकी शरण में आता है तो उसे अपने शरीर या आत्मा के लिए कोई भय नहीं होना चाहिए।

सफलता के 15 मूल मंत्र

Share.