website counter widget

Hindi Kahani : शेख के चिल्ली बनने की कहानी

0

बचपन में मियां शेख चिल्ली (Shekh Chilli ) को मौलवी साहब नें शिक्षा दी थी की लड़के और लड़की के लिए अलग अलग शब्दों का प्रावधान होता है। उदाहरण के तौर पर “सुलतान खाना खा रहा है” लेकिन “सुलताना खाना खा रही है।” मियां शेख चिल्ली नें मौलवी साहब की यह सीख गाठ बांध ली। फिर एक दिन मियां शेख चिल्ली जंगल से गुज़र रहे थे। तभी उन्हे किसी कुएं के अंदर से किसी के चिल्लाने की आवाज़ आई। वह फौरन वहाँ दौड़ कर जा पहुंचे। उन्होने देखा की वहाँ कुए में एक लड़की गिरि पड़ी थी और वह मदद के लिए चिल्ला रही थी।

Hindi Kahani : चालाकी की सज़ा

मियां शेख चिल्ली (Shekh Chilli ) तुरंत दौड़ कर अपने दोस्तों के पास गए और उन्हे बोलने लगे कि वहाँ कुएं के अंदर एक लड़की गिरि पड़ी है और वह मदद के लिए चिल्ली रही है। मियां शेख चिल्ली और उनके दोस्तों नें मिल कर उस लड़की को कुएं से बाहर निकाल लिया। फिर घर जाते वक्त मियां शेख चिल्ली के एक दोस्त नें यह सवाल किया की मियां शेख आप लड़की चिल्ली रही….चिल्ली रही… क्यों बोले जा रहे थे? तब मियां शेख के एक पुराने दोस्त नें खुलासा किया कि मौलवी साहब नें मियां शेख को पढ़ाया था की लड़का होगा तो… खाना खा रहा है, और लड़की हुई तो खाना खा रही है इसी हिसाब से मियां शेख नें लड़की के चिल्लाने पर “चिल्ली रही” शब्द का प्रयोग किया।

Hindi Kahani : तुम सच कहती हो गौरैया

मियां शेख चिल्ली (Shekh Chilli ) के सारे दोस्त मियां शेख की इस मूर्खता पर पेट पकड़ कर हंस पड़े और तभी से मियां शेख बन गए “मियां शेख चिल्ली”। शेख चिल्ली की मूर्खता के कई कहानियां है हसीं मजाक के साथ हमें कई तरह की प्रेरणा और शिक्षा देती है| कई किस्से है जो बेहद दिलचस्प है लेकिन उनके पीछे हास्य के साथ कोई न कोई सन्देश छुपा होता हैं | मियां शेख चिल्ली” सचमुच बेमिसाल थे |

Vishnu Prabhakar की दिल छू लेने वाली कहानी

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.