जिंदगी और मौत के बीच झूल रहे बच्चे को व्हाट्सएप ने दी ज़िंदगी

0

हमने सोशल मीडिया के गलत उपयोग की कई ख़बरों के बारे में सुना है| कई बार सोशल मीडिया जानलेवा भी साबित हो जाता है, लेकिन कई ऐसे भी मामले हैं जब फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिये लोगों की जान भी बची है| ऐसा ही एक मामला महारष्ट्र के नासिक से आया है| दरअसल, ब्लड कैंसर से जूझ रहे एक बच्चे की जान सिर्फ व्हाट्सएप के जरिये बची| बच्चे की बीमारी के बारे में जानकर 111 लोगों ने रक्तदान कर उसे जीवनदान दिया|

दरअसल, नासिक के अस्पताल में 14 साल के ध्रुव का ब्लड कैंसर का इलाज चल रहा था| उसे हर दिन 10 से 12 यूनिट खून चढ़ाया जाता है, लेकिन खून नहीं मिल पाने के कारण बच्चे के परिजन और डॉक्टर परेशान हो गए| ध्रुव का ब्लड ग्रुप ‘ए’ पॉजिटिव है| ब्लड बैंक के पास इस ग्रुप का खून नहीं था| घर वाले हर बार इसके लिए भारी कीमत अदा करते थे| इसके बाद परिवारवालों ने लोगों से व्हाट्सएप पर रक्तदान के लिए मदद मांगी और बच्चे की स्थिति के बारे में जानकारी दी| देखते ही देखते यह मैसेज वायरल हो गया|

सोशल मीडिया पर बच्चे के बारे में जानकर कई लोग सामने आए| शिरडी के 111 लोगों ने बच्चे को रक्त दिया| इतना ही नहीं कई युवकों ने इस बच्चे की मदद के लिए रक्तदान की अपील की और इसके लिए ज़रूरी इंतजाम भी किए| इसके पहले नासिक की समता ब्लड बैंक कई दिनों से ध्रुव को रक्तदान कर रही थी|

बच्चे के पिता चेतन लोढ़े ने बताया कि जब ब्लड बैंक से भी खून नहीं मिला तो परिवार वाले परेशान हो गए| उनकी परेशानी देखते हुए दोस्तों ने सुझाव दिया था कि सोशल मीडिया पर लोगों से अपील करें| मैसेज वायरल होने के बाद शिरडी से 175 लोग आगे आए, जिनमें से 111 का ब्लड बच्चे के ब्लड से मैच हुआ|

Share.