X

कागजों पर ही चला अभियान

0

114 views

पल्स पोलियो अभियान के तहत सरकार का लक्ष्य गांव से लेकर शहर तक हर बच्चे को पोलियो की दवाई पिलाना है| इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकारी कर्मचारी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं| अभियान को पूरा करने में लगे कुछ कर्मचारियों ने टारगेट पूरा करने के चक्कर में ऐसे घरों में जाकर भी पोलियो की दवा पिलाना बता दिया, जो काफी समय से बंद पड़े थे और वहां कोई रहने वाला नहीं था|

बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश के श्योपुर में पल्स पोलियो अभियान के लिए विभाग ने 1 लाख 14 हजार 565 बच्चों को दवा पिलाने का लक्ष्य रखा था| इसके अंतर्गत अभियान में लगे कर्मचारियों ने पहले दिन बनाए गए 816 बूथों पर 71 हजार से अधिक बच्चों को दवा पिलाई| अंतिम दिन मंगलवार को विभाग ने 1 लाख 14 हजार से अधिक बच्चों को दवा पिलाने का दावा किया है, लेकिन जब इन दावों की सच्चाई के बारे में पता चला तो सरकारी कर्मचारियों की करतूतों का पता चला|

इस फर्जीवाड़े में विभाग ने दस्तावेजों में उन घरों पर भी बच्चों को दवा पिलाना बता दिया, जिन घरों में कई माह से ताले डले हैं| इन घरों में रहने वाले लोग कई माह पहले मजदूरी के लिए या तो राजस्थान में पलायन कर गए हैं या फिर फसल कटाई के लिए दूसरे विकासखंड में पहुंच गए हैं|

Share.
31