ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर फैली एक गलत, लेकिन सच तो यह है कि….

0

हाल ही में देश और मप्र की सियासत में एक अजीब सी खलबली मच गई जब फिलहाल भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के फिर से कांग्रेस में शामिल होने की बात होने लगी . सत्येन्द्र यादव ने खुद इस बात को कहा को महाराज बीजेपी में घुटन महसूस कर रहे है और जल्द ही वापसी करेंगे . अब इस खबर के इतर कई तरह की ख़बर चल निकली . ऐसे में एक खबर बड़ी जोर शोर से कुछ मीडिया हाउसेज़ ने दिखाई > इनके अनुसार सिंधिया ने अपने ट्विटर अकाउंट से ‘भाजपा’ हटा दिया है और जनता का सेवक और क्रिकेट प्रेमी लिखा है. जबकि असलियत से इसका कोई ताल्लुक ही नही था .

क्या है माजरा –

अपने रिपोर्ट्स में ज्योतिरादित्य सिंधिया के ट्विटर बायो का स्क्रीनशॉट लगाते हुए खबर दिखाई जा रही है की सिंधिया ने अपने ट्विटर अकाउंट से ‘भाजपा’ हटा दिया है और जनता का सेवक और क्रिकेट प्रेमी लिखा है.  पर कही भी यह नही बताया गया की इससे पहले के बायो में क्या लिखा था, असल में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने ट्विटर बायो में ‘बीजेपी’ रखा ही नहीं था. उन्होंने march 2020 में बीजेपी की सदस्यता ली लेकिन स्क्रीनशॉट Wayback Machine नामक एक सर्विस का है. जो यूजर का अलग-अलग समय पर ऑटोमेटिकली स्क्रीनशॉट लेती रहती है. ज्योतिरादित्य सिंधिया के मामले में पता चला कि 21 अगस्त, 2015 से 17 मई, 2020 तक कुल 54 स्क्रीनशॉट लिए गए हैं. ये स्क्रीनशॉट उनके ट्विटर टाइमलाइन के होम पेज के हैं. जो बताते है कि ‘जनता का सेवक और क्रिकेट प्रेमी’ वाला बायो से पहले  उन्होंने मप्र गुना सांसद लिखा था . ‘इसके अलावा जनवरी के बाद के कई स्क्रीनशॉट देखे, जिनमे भी यही है.

पहला स्क्रीनशॉट मार्च, 2020 में भाजपा जॉइन करने से पहले का है. जहा उन्होंने अपनी ट्विटर डिस्प्ले पिक्चर बदली है. पहले कांग्रेस के गमछे में अब भाजपा के गमछे में

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हाल में अपने ट्विटर बायो में कोई बदलाव नहीं किया . इससे साफ है की उन्होंने कभी अपने ट्विटर से ऐसा कुछ नही किया जो फिलहाल खबर में है . अब इससे नाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया ने एक ट्वीट किया और लिखा, “ये दुख की बात है कि झूठी खबर सच्चाई से तेज रफ़्तार में प्रसारित हो जाती है.” साथ ही उन्होंने एक ट्वीट को  retwit किया  है जिसमें उनके बायो बदले जाने की ख़बर को पूरी तरह से गलत करार दिया .

Share.