share your views
share your Comments

बैंकों के एनपीए के लिए नए नियम

0

437 views

रिजर्व बैंक ने बैंकों के लिए डूबे हुए कर्ज से निपटने के नियम और सख्त कर दिए हैं। अब बैंकों को तय समय के अंदर बड़े एनपीए खातों के लिए रिज्योलूशन प्लान लाना होगा। रिजोल्यूशन प्लान लागू नहीं होने पर खाता एनसीएलटी में चला जाएगा। 15 दिन के अंदर एनसीएलटी में मामले को भेजा जाएगा। डूबे कर्ज से निपटने की सभी पुरानी स्कीमें खत्म हो गई हैं।

अब बैंकों को 180 दिन के अंदर बड़े एनपीए खातों का या तो निपटारा करना होगा या फिर आईबीसी में ले जाना होगा।
नए नियमों के मुताबिक 2000 करोड़ रुपये से ऊपर के एनपीए को 180 दिन में सुलझाना होगा। 5 करोड़ से ऊपर के खातों में डिफॉल्ट पर रिपोर्ट जरूरी होगा। बैंकों को हर हफ्ते एनपीए पर आरबीआई को रिपोर्ट देनी होगी। इसके साथ ही रिजर्व बैंक ने मार्च से एसडीआर, एस4ए, सीडीआर, जेएलएफ फ्रेमवर्क को भी खत्म कर दिया है।

रिज़र्व  बैंक ने सभी बैंकों को सतर्क करते हुए कहा है कि अगर नियमों की अनदेखी की गई, तो उनके ख़िलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सकती है| इसके साथ ही आरबीआई की तरफ से सख्त निरीक्षण भी किया जाएगा|

 

Share.
19