बागी हुआ लालू का लाल

0

लालू के लाल एक बार फिर से सुर्ख़ियों में छा गए हैं। इस बार आरजेडी (RJD) से उनकी नाराजगी साफ़ देखी जा सकती है। तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने आरजेडी को एक झटका दे दिया है। लोकसभा चुनाव से पहले तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) के एक फैसले से आरजेडी (RJD) को तगड़ा झटका लगा है। वहीं तेजप्रताप के इस फैसले से यह भी स्पष्ट हो गया है कि आरजेडी के अंदर कुछ भी ठीक नहीं है और ना ही तेजप्रताप की किसी बात पर कोई तवज्जो दी रही है।

Image result for tej pratap yadav

गौरतलब है कि तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने छात्र आरजेडी (RJD) के संरक्षक पद को छोड़ने का फैसला कर लिया है। तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने संरक्षक पद से त्यागपत्र दे दिया है। तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से खुद इस बात की जानकारी दी है। ट्वीट करते हुए तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने लिखा, “छात्र राष्ट्रीय जनता दल के संरक्षक के पद से मैं इस्तीफा दे रहा हूं। नादान हैं वो लोग जो मुझे नादान समझते हैं। कौन कितना पानी में है सबकी है खबर मुझे।”

https://twitter.com/TejYadav14/status/1111229882535694337

दरअसल तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) की मांग थी कि शिवहर और जहानाबाद लोकसभा सीट से उनके पसंदीदा उम्मदवारों अंगेश सिंह और चंद्रप्रकाश को मैदान में उतारा जाए। इसे लेकर वे एक प्रेस वार्ता भी करने वाले थे। लेकिन उनके इस त्यागपत्र से यह साफ़ जाहिर है कि उनकी बात को नहीं सुना गया। तेजप्रताप ने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल (RJD) में लोग सही तरीके से अपना कार्य नहीं कर रहे है। तेजप्रताप का आरोप है कि पार्टी के बड़े नेता उम्मीदवारी को लेकर अनदेखी कर रहे हैं।

Related image

हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने अपनी ही पार्टी के बड़े नेताओं पर आरोप लगाया हो। इससे पहले भी कई बार वे कह चुके हैं कि पार्टी के बड़े नेता अपने कार्य ठीक ढंग से नहीं कर रहे। इतना ही नहीं कई बार यह भी कहा जा चुका है कि तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) के खिलाफ पार्टी में साजिश रची जा रही है। हालांकि तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने इन सभी बातों का खंडन करते हुए हमेशा ही अपने परिवार का साथ देने की बात कही है। लेकिन तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) अपने पिता और अपनी पार्टी से खफा चल रहे हैं। उनकी नाराजगी उनके त्यागपत्र से साफ़ झलक रही है।

Lok Sabha Election 2019 : आपस में भिड़ा लालू का परिवार

Related image

तेजप्रताप का कहना है कि वे जनता की मांग के हिसाब से ही उन दो उम्मीदवारों को इस बार चुनाव में उतारना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वे लगातार जनता के बीच जाकर उनसे मिल रहे हैं। लेकिन पार्टी के बड़े नेता इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे। तेजप्रताप ने कहा कि अभी लालू यादव जेल में सजा काट रहे हैं। पार्टी में न होने से लालू यादव पार्टी के बड़े नेताओं के खेल को न तो देख पा रहे हैं न ही समझ पा रहे है। उन्होंने कहा कि लालू यादव से भी उम्मीदवारी के लिए बात की गई थी। तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने कहा कि हमारी मांग नहीं मानी जा रही है इसलिए मैंने यह फैसला लिया है। मैं अपने फैसले से पीछे नहीं हटूंगा। उन्होंने कहा कि वे अपने लोगों के लिए जान देने से भी पीछे नहीं हटेंगे।

Lok Sabha Election 2019 : सीपीएम का घोषणा पत्र, महिलाओं के लिए किया यह वादा  

पीएम रोजाना स्वांग, प्रपंच और गालियों से करते हैं बात!

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.