चुनाव से पहले मोदी ने जीत ली काशी

0

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के अंतर्गत भाजपा के स्टार प्रचारक नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) आज नामांकन दाखिल करने वाले हैं। उत्तरप्रदेश के वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ने को तैयार पीएम मोदी ने कई काशी में भव्य रोड शो का आयोजन किया था। यानी शुक्रवार को उन्होंने बूथ कार्यकर्ताओं को सम्बोधित किया। संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि हमने कल ही वाराणसी जीत ली है। पीएम ने कहा, “कल जिस प्रकार से बनारस के लोगों का अपार उत्साह देखा उससे मैं अभिभूत हूं। जैसा परिवार के मुखिया के आशीर्वाद मिलने पर अनुभव होता है मुझे कल हर काशीवासी के आशीर्वाद से वैसा अनुभव हुआ। दोस्तों मैं भी कभी बूथ कार्यकर्ता था। जिस वक्त ‘दीया’ था तब मैं दीवार पर दीया बनाता था। पोस्टर लगाता था।ये कार्यकर्ता का परिश्रम और जनता के प्रेम का संगम था। ”

PM मोदी के नामांकन में राजा, दिग्‍गज नेता और फिल्‍मी सितारे

पीएं ने आगे कहा, “मैं पिछले डेढ़ महीने से हिंदुस्तान के कोन कोने में जा रहा हूं। देख रहा हूं कि जनता अब ये जान चुकी है कि पहले सरकारे बनती थी अब सरकारें चलती हैं। आपको मैं कार्यकर्ता के नाते हिसाब देता हूं पांच साल में कार्यकर्ता के नाते नरेंद्र मोदी ने नाते पार्टी ने मुझसे जितना समय मांगा जब मांगा जहां मांगा, एक बार भी मैंने मना नहीं किया। कार्यसमिति में भी एक कार्यकर्ता की तरह मैं पूरा समय बैठता था। मेरे भीतर के कार्यकर्ता को मैंने कभी मरने नहीं दिया और पीएम के रूप में मैं जिम्मेवारी निभा पा रहा हूं इसका कारण ये है कि मैं पीएम, बीजेपी कार्यकर्ता और एमपी के नाते उतना ही सजग हूं।इस चुनाव के दो पहलू है, एक है काशी लोकसभा जीतना, वो काम कल पूरा हो गया है। एक काम अभी बाकि है वो है पोलिंग बूथ जीतना। ”

GST ने तोड़ी अर्थव्यवस्था की कमर : शत्रुघ्न सिन्हा

महिला वोटरों की संख्या में इजाफा

पीएम ने महिला वोटरों के बारे में कहा, “क्या हम महिला वोटरों की संख्या में इजाफा कर सकते हैं। मैं मातृ शक्ति को हमेशा सम्मान करता हूं। यदि मोदी की कोई सुरक्षा करता है तो वह है देश का माताएं बहनें। देश को कोने कोने से मेरी माताएं बहने वोट करने के लिए एक दूसरे को प्रेरित कर रही है। क्या काशी में ऐसा नहीं हो सकता है? हम तय करें कि हमारे पोलिंग बूथ में अगर 100 वोट पुरुषों के पड़ते हैं तो 105 वोट महिलाओं के पड़ें। मैं अहमदाबादी हूं, पक्का, अहमदाबादी लोग सिंगल फेयर, डबल जर्नी वाले होता है। कम से कम खर्चे पर चुनाव लड़ा जा सकता है। आपके पोलिंग बूथ पर अगर 1000 वोट हैं मतलब 250 परिवार है। मान लीजिए बूथ पर 25 कार्यकर्ता है। एक कार्यकर्ता को 10 परिवार पर लगा दो। उस कार्यकर्ता को बता दो कि तुम्हारा चाय, खाने का खर्चा बंद। आप उन 10 परिवारों में जाएं और खाना, चाय, टीवी सब वहीं करें। ”

आखिर क्यों माया के पैरों में आई डिंपल

Image result for पं नरेंद्र मोदी

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.